CTET Exam Sep 2016 Paper - I Language II (Hindi)

CTET Exam Sep 2016 Paper – I Language II (Hindi)

निर्देश : नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्न (प्रश्न सं० 136 से 143) के सही/सबसे उपयुक्त उक्त वाले विकल्प को चुनिए।

हमें स्वतंत्र हुए 15 वर्ष ही हुए थे कि पड़ोसी चीन ने हमारी पीठ में छुरा भोंक दिया। उत्तरी सीमा की सफेद बफ़ली चोटियाँ शहीदों के खून से सनकर लाल हो गईं। हज़ारों माँ की गोदें सूनी हुईं, हज़ारों की माँग का सिंदूर पूँछ गया और लाखों अभागे बच्चे पिता के प्यार से वंचित हो गए।

गणतंत्र दिवस निकट आ रहा था। देश का हौसला पस्त था। कोई उमंग नहीं रह गई थी पर्व मनाने की। तब यह सोचा गया। कि जानी-मानी फिल्मी हस्तियाँ आयोजन में शामिल हों तो भीड़ उमड़ेगी। वहाँ कोई ऐसा गीत प्रस्तुत हो जो लोगों के दिल को छूकर उन्हें झकझोर सके। चुनौती फिल्म जगत तक पहुँची। एक नौजवान गीतकार प्रदीप ने चुनौती स्वीकारने का मन बनाया और गीत लिखना शुरू किया। लेकिन सुर और स्वर के बिना गीत का क्या! प्रदीप संगीत निर्देशक सी० रामचंद्र के पास पहुँचे। उन्हें गीत पसंद आया और रक्षा मंत्रालय को सूचना दे दी गई।

26 जनवरी का शुभ दिन आया। लाखों की भीड़ बड़ी उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही थी। तब तक जो धुन बज रही। थी वह हटी और थोड़ी देर शांति रही। तभी उस शांति को चीरता हुआ लता मंगेशकर का वेदना और चुनौती भरा स्वर सुनाई पड़ा- “ऐ मेरे वतन के लोगो, ज़रा आँख में भर लो पानी।” समय जैसे थम गया। सभी के मन एक ही भाव, एक ही रस में डूब गए। गीत समाप्त हुआ तो लगभग दो लाख लोग सिसक रहे थे। आँसू थे कि थमते ही न थे।

16. “ऐ मेरे वतन के लोगो ______” गीत के बारे में क्या सच नहीं है?
(1) लता मंगेशकर ने स्वर दिया
(2) प्रदीप ने लिखा
(3) मन्ना डे ने सुर दिया
(4) सी० रामचंद्र ने संगीत दिया

Show Answer/Hide

Answer – (3)

17. भारत में 26 जनवरी का पर्व मनाने की उमंग न रहने का कारण था :
(1) चीन का दबाव
(2) हज़ारों युवकों को शहीद होना
(3) सैनिकों के द्वारा मार्चपास्ट से इनकार
(4) रक्षा मंत्रालय की अनिच्छा

Show Answer/Hide

Answer – (2)

18. रक्षा मंत्रालय को क्या सूचना दी गई होगी?
(1) प्रदीप और सी० रामचंद्र भी दिल्ली आएँगे
(2) 26 जनवरी का पर्व मनाया जाए
(3) फिल्मी हस्तियाँ भाग लेंगी
(4) गीत प्रस्तुत करने की चुनौती स्वीकार है।

Show Answer/Hide

Answer – (4)

19. ‘पीठ में छुरा भोंकना’ का अर्थ है :
(1) पराजित करना
(2) युद्ध में घायल करना
(3) आक्रमण करना
(4) विश्वासघात करना

Show Answer/Hide

Answer – (4)

20. जानी-मानी फिल्मी हस्तियों को बुलाने का निर्णय क्यों लिया गया?
(1) शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए
(2) गणतंत्र दिवस मनाने के लिए
(3) भीड़ जुटाने के लिए
(4) लता मंगेशकर का गीत सुनने के लिए

Show Answer/Hide

Answer – (3)

21. ‘माँग का सिंदूर पूँछ जाना’ मुहावरे का अर्थ है :
(1) अभागिन होना
(2) अनाथ हो जाना
(3) विधवा हो जाना
(4) वियोगिनी होना

Show Answer/Hide

Answer – (3)

22. देश का हौसला पस्त था, क्योंकि :
(1) फिल्मी हस्तियाँ साथ नहीं दे रही थीं
(2) चीन से मात खाई थी
(3) तैयारियाँ नहीं की गई थीं
(4) कोई उमंग शेष नहीं थी

Show Answer/Hide

Answer – (2)

23. ‘उमड़ना’ क्रिया का कौन-सा प्रयोग ठीक नहीं है?
(1) आँसू उमड़ चले
(2) भीड़ उमड़ पड़ी
(3) नदी उमड़ आई
(4) दूध उमड़ने लगा

Show Answer/Hide

Answer – (4)

निर्देश : नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों (प्रश्न सं० 144 से 150) के सही/सबसे उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प को चुनिए।

बारिश के लिहाज़ से वह साल ठन-ठन गोपाल था। खेतों में जैसे-तैसे धान रोप दिया गया था लेकिन तेज़ धूप ने उसे झुलसा डाला था। सावन सिर पर था और बादल लापता। कि तभी एक उमसती हुई रात में बिजली कड़कने से नींद खुली। थोड़ी देर में झींसियाँ पड़ने लगीं। चारपाइयाँ आँगन से उठाकर भीतर कर ली गईं। लेकिन हवा गुम थी और गर्मी ज्यों-की-त्यों, लिहाज़ा वह रात रतजगे में ही गई। सुबह हुई। तो लोग धान बच जाने को लेकर ऊपर वाले का शुक्रिया अदा करते दिखे। बरसात रात वाली रफ़्तार से ही जारी थी। न उससे धीमी, न तेज़। आसमान समतल और तकरीबन सफेद था। बादल बीच-बीच में ज़रा-सा गुरिकर खामोश हो जा रहे। थे। स्कूल का टाइम हुआ तो हम जैसे ढीलों ने इकतरफा तौर पर रेनी डे’ मनाने का फैसला किया, जबकि पढ़ाकुओं ने बस्ता लादा और सुपरिचित रास्ते पर बढ़ चले। थके-हारे पढ़वैये शाम को लौटे तो उनकी हालत कटे खेत में पानी भरने पर भागे चूहों जैसी थी। बारिश से बुरी तरह ऊबकर हम सोए, इस उम्मीद में कि कल नीला आकाश देखने को मिलेगा।

24. “बारिश के लिहाज़ से वह साल ठन-ठन गोपाल था।” वाक्य का भाव है :
(1) पढ़ाई नहीं कर पाए थे
(2) बारिश नहीं हुई थी
(3) बहुत बारिश हुई थी
(4) अकाल के कारण पैसा नहीं था

Show Answer/Hide

Answer – (2)

25. “सावन सिर पर था।” इस कथन का आशय है कि सावन :
(1) आ चुका था
(2) सूखा था
(3) दूर था
(4) आने वाला था

Show Answer/Hide

Answer – (4)

26. गद्यांश के आधार पर कहा जा सकता है कि अगले दिन :
(1) लोग बारिश होने से खुश थे।
(2) लोग बारिश के न होने से परेशान थे।
(3) लोग तेज़ बारिश के न होने से खुश थे।
(4) तेज़ बारिश में रेनी डे’ मनाया जाता है।

Show Answer/Hide

Answer – (3)

27. ‘झींसियाँ’ शब्द का भाव है :
(1) बहुत हल्की बूंदा-बाँदी
(2) मूसलाधार बारिश
(3) तेज़ फुहारें
(4) तेज़ बूंदा-बाँदी

Show Answer/Hide

Answer – (1)

28. “हम जैसे ढीलों ने इकतरफा तौर पर ‘रेनी डे’ मनाने का फैसला किया।” वाक्य में लेखक ने अपनी किस विशेषता को बताया है?
(1) दिमाग से कमज़ोर
(2) बारिश का मज़ा लेने वाले
(3) पढ़ाई में पिछड़े
(4) हर्षोल्लास से त्योहार मनाने वाले

Show Answer/Hide

Answer – (3)

29. किन लोगों ने ‘रेनी डे’ नहीं मनाया?
(1) जो भीगना नहीं चाहते थे
(2) जो बारिश से बचते थे
(3) जो पढ़ाकू थे
(4) जो डरपोक थे

Show Answer/Hide

Answer – (3)

30. “सावन सिर पर था और बादल लापता।” वाक्य
(1) संयुक्त
(2) संकेतवाचक
(3) सरल
(4) मिश्र

Show Answer/Hide

Answer – (1)

 

Read Also :

Read Related Posts

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

State

Bihar
Madhya Pradesh
Rajasthan
Uttarakhand
Uttar Pradesh

E-Book

Subjects

Category
error: Content is protected !!