UTET Exam 2019 Paper – 2 (Language II – Hindi) (Official Answer Key)

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद् (UBSE – Uttarakhand Board of School Education) द्वारा 06 नवम्बर 2019 को UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) की परीक्षा का आयोजन किया गया। UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) Exam Paper 2019 – भाषा द्वितीय – हिंदी की उत्तरकुंजी (Language Second – Hindi Part Answer Key).

UBSE (Uttarakhand Board of School Education) Conduct the UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) 2019 Exam on 06 November 2019. Here UTET Paper 2 Language Second – Hindi Subject Paper with Answer Key.

Read Also …

UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) Junior Level
(Class 6 to Class 8)

Exam :−  UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test)
Part :− भाषा द्वितीय – हिंदी (Language Second – Hindi)
Organized
by : UBSE

Number of Question : 30
Exam Date :– 06th November 2019

UTET Exam 2019 Paper – 2 (Junior Level)
भाषा द्वितीय – हिंदी (Language Second – Hindi)

निर्देश : निम्नांकित गद्यांश को पढ़कर पूछे गये प्रश्नों (61 से 64 तक) के सर्वाधिक उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प का चयन कीजिए –

आत्मभाषा में ही आत्मज्ञान या स्वज्ञान का विकास जाता है। आत्मभाषा आत्ममुक्ति का साधन है। आत्ममुक्ति तात्पर्य सोचने, समझने, कहने और सुनने के स्वराज पाप्ति से है और यह अपनी भाषा में ही संभव है। भारतीय समाज में विकास की पहली जरूरत है कि सोचने, समझने और विभिन्न कार्यों को करने के लिए औपनिवेशिक परिवेश से मुक्त मनो-मस्तिष्क का विकास, जिसे हमने अंग्रेजी उपनिवेशवाद के प्रभाव के कारण खो दिया है। इसे पुराने ढर्रे पर लाना ही होगा। हालांकि नापसी की यह प्रक्रिया इतनी आसान नहीं है। इसे संभव बनाने के लिए हमें आत्म विस्मृति के दंश से निकलना होगा। औपनिवेशिकता की गुलामी में जकड़े देश आमतौर पर आत्मविस्मृति के शिकार रहे हैं। उनकी आजादी की लड़ाई आत्म विस्मृति’ से मुक्ति की लड़ाई रही है। राष्ट्रीय अस्मिता के लिए संघर्ष की लड़ाई रही है।

Read Also ...  UTET Exam 06 Nov 2019 Paper – 1 (Language II – Hindi) (Official Answer Key)

असल में होता यह है कि हमें नीतियाँ उनके लिए बनानी हैं और उस समाज का विकास करना है जो अंग्रेजी नहीं जानता। वह तबका अपनी भाषा में सोचता है और वही उसकी आकांक्षाओं की भाषा है। ऐसी जनता के लिए नीतियां बनाने वाले और सोचने-समझने वालों की भाषा अभी भी अंग्रेजी है। ऐसे में विकास एवं जरूरतमंद लोगों के बीच एक खाई चौड़ी हो जाती है। हमें आवश्यकता इस बात की है कि हम जनता की आकांक्षा की भाषा के साथ स्वयं को जोड़ें।

61. वैचारिक उद्भावना का सर्वोत्तम माध्यम है
(A) राष्ट्रभाषा
(B) आत्मभाषा
(C) साहित्यिक भाषा
(D) अभिजात्य वर्ग की भाषा

62. विदेशी परतंत्रता की घातक परिणति क्या है?
(A) नैतिक अधःपतन
(B) आर्थिक शोषण
(C) राष्ट्रीय अस्मिता पर कुठाराघात
(D) सामाजिक परंपरा का क्षरण

63. आत्म विस्मृति का क्या अभिप्राय है?
(A) अपनी अस्मिता को भुला देना
(B) अपने आप में खो जाना
(C) सामाजिक परंपराओं से अनभिज्ञता
(D) स्वतः भूल जाने की प्रवृत्ति

64. आम जनता के सर्वांगीण विकास के लिए आवश्यक है –
(A) प्रचुर वित्तीय संसाधनों की उपलब्धता
(B) देश के प्राकृतिक संसाधन
(C) नीति-नियन्ता और आम जनता के बीच भाषा एवं चिन्तन विषयक साम्य
(D) योजनाओं के क्रियान्वयन में तत्परता

निर्देश : निम्नलिखित गद्यांश को पढ़ कर पूछे गये प्रश्नों (65 से 68) के सर्वाधिक उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प का चयन कीजिए –

इक्कीसवीं सदी की दस्तक के साथ अपने देश में और अन्तर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में जनसंचार माध्यमों का क्षितिज बहुत बढ़ गया है। आज जनसंचार माध्यमों का अर्थ केवल शब्द संचार माध्यम नहीं रह गया और इसमें भी केवल समाचार पत्र नहीं आते, अपितु आज जनसंचार माध्यमों में समाचार पत्रों के अतिरिक्त साप्ताहिक, पाक्षिक व मासिक पत्रिकाएं और पुस्तकें भी शामिल हो गई हैं। इसके महत्व और उपयोगिता को देखते हुए ही किसी समय लॉर्ड मैकॉले ने इन्हें चौथी सत्ता का नाम दिया था, लेकिन आज हम इस नये युग में विद्युत माध्यम के द्वारा हुई जनसंचार क्रान्ति के योगदान को नहीं भुला सकते । विद्युत और कम्प्यूटर क्रान्ति के इस युग में रेडियो और दूरदर्शन जैसे जनसंचार माध्यम लोगों के ड्रॉइंगरूम में जाकर बतियाने लगे है।

Read Also ...  UTET Exam 2018 – Paper – 2 (Child Development and Pedagogy) Official – Answer Key

65. समाचार पत्र, जनसंचार का किस प्रकार का माध्यम है –
(A) दृश्य माध्यम
(B) श्रव्य माध्यम
(C) दृश्य-श्रव्य माध्यम
(D) मुद्रण माध्यम

66. जनसंचार माध्यमों का क्षितिज बढ़ने का क्या आशय है ?
(A) जनसंचार माध्यमों की संख्यात्मक वृद्धि
(B) जनसंचार माध्यमों की कौशल वृद्धि
(C) जनसंचार माध्यमों की परस्पर स्पर्धा में वृद्धि
(D) जनसंचार माध्यमों का उत्तरदायित्व निर्वहन पूर्वक क्षेत्र विस्तार

67. लॉर्ड मैकॉले ने जनसंचार माध्यमों के लिए नाम दिया था –
(A) तीसरा स्तंभ
(B) चौथी सत्ता
(C) लोक सत्ता
(D) लोक समाचार

68. निम्नलिखित शब्दों में से तद्भव शब्द है
(A) पुस्तक
(B) चौथी
(C) ड्रॉइंगरूम
(D) बतियाना

69. ‘कालिन्दी’ का समानार्थी शब्द बताइए –
(A) विष्णुपदी
(B) भार्गवी
(C) अर्कजा
(D) कामाक्षी

70. ‘थाली का बैगन होना’ इस मुहावरे का सही अर्थ है –
(A) बहुत रूचिकर होना
(B) सर्वत्र सुलभ होना
(C) अस्थिर विचार का होना
(D) मनपंसद का होना

71. भाषा का आधारभूत प्रयोजन है
(A) कथन
(B) श्रवण
(C) विश्लेषण
(D) सम्प्रेषण

72. बालकों की शिक्षा भाषा-शिक्षण से आरंभ की जाती है, क्योंकि –
(A) भाषा-शिक्षण सरल होता है।
(B) भाषा विचारों की अभिव्यक्ति का मुख्य साधन है।
(C) भाषा बालक को संस्कारित करती है।
(D) भाषा बालक का बुद्धिवर्द्धन करती है।

73. लिखित भाषा के लिए अनिवार्य है –
(A) लिपि का ज्ञान
(B) अंकों का ज्ञान
(C) बाराखड़ी का ज्ञान
(D) व्याकरण का ज्ञान

Read Also ...  UTET Exam 26 Nov 2021 Paper – 2 (Language II – English) (Official Answer Key)

Click To Show Answer/Hide

Answer – (A)

74. निम्नांकित व्यंजनों में महाप्राण व्यंजन नहीं है –
(A) घ
(B) छ
(C) ढ
(D) त

75. ‘दूध का जला छाछ को भी फूंक-फूंक कर पीता है’ यह एक –
(A) कहावत है
(B) मुहावरा है
(C) किंवदन्ती है
(D) कविता की पंक्ति है

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!