RPSC Assistant Professor (College Education Dept.) Exam 2021 (Political Science – I) Official Answer Key

राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित (RPSC – Rajasthan Public Service Commission), द्वारा आयोजित RPSC Assistant Professor (College Education Department) Exam 2020 की परीक्षा 29 सितम्बर, 2021 को आयोजित की गई थी, इस RPSC Assistant Professor (College Education Department) Exam 2020 परीक्षा के राजनीति विज्ञान प्रथम प्रश्नपत्र का (Political Science Paper – I) उत्तर कुंजी (Official Answer Key) के साथ यहाँ पर उपलब्ध है – 

RPSC (Rajasthan Public Service Commission) Conduct The RPSC Assistant Professor (College Education Department) Exam 2020 held on 29 September, 2021. This RPSC Assistant Professor (College Education Department) Exam 2020 – Political Science Paper – I with Official Answer Key Available Here. 

पोस्ट (Post) :- RPSC Assistant Professor (College Education Department) 
परीक्षा आयोजक (Organizer) :- RPSC (राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित) 
परीक्षा तिथि (Exam Date) :- 29 September, 2021 
कुल प्रश्न (Number of Questions) :- 150

RPSC Assistant Professor (College Education Department) Exam 2021
(Political Science Paper – I)
Official Answer Key

1. निम्नांकित विचारकों में से कौन ‘स्वतन्त्रता को गैर हस्तक्षेप के रूप में परिभाषित करते हुए सार्वजनिक नीति का उद्देश्य खुशी से अधिक लोगों की चिन्ताजनक पीड़ा को कम करना मानता है’ ?
(1) जे.एस. मिल
(2) कार्ल पॉपर
(3) हेनरी सिजविक
(4) फ्रेडरिक हायक

2. निम्नांकित में से कौन स्वतन्त्रता को ‘कानूनों की चुप्पी’ के रूप में परिभाषित करता/करती है ?
(1) केट मिलेट
(2) थॉमस हॉब्स
(3) इजाया बर्लिन
(4) रूसो

3. निम्नांकित में से कौन अवसर की समानता को मेंढक दर्शन’ के रूप में दर्शाता है ?
(1) आर.एच. टॉनी
(2) फ्रेडरिक हायक
(3) मार्था नासबाम
(4) सी.बी. मेक्फरसन

4. निम्नांकित में से किसने यह तर्क दिया है कि ‘न्याय का हर वो सिद्धान्त अधूरा है, जो परिवार में असमानताओं को लेकर चुप है ?
(1) सुसेन मोलर ऑकिन
(2) कैथरीन मेकिनॉन
(3) मार्था नासबाम
(4) कैरोल पेटमेन

Read Also ...  RPSC Assistant Professor (College Education Dept.) Exam 2021 (Public Administration - I) Official Answer Key

Click To Show Answer/Hide

Answer – (1)

5. “नागरिक समाज के साहचर्यों को नागरिकता के सिद्धान्त के अनुसार सुधारने की जरूरत हो सकती है।” माइकल वाल्जर अपने इस नज़रिये को कहता है
(1) आलोचनात्मक साहचर्य वाद
(2) साहचर्य आधारित नेटवर्क
(3) सार्वजनिक तर्क बुद्धि
(4) परवाह का नीतिशास्त्र

6. ‘जैक्सोनियन डेमोक्रेसी (लोकतन्त्र)’ शब्दावली निम्नांकित में से किस देश से सम्बन्धित है ?
(1) संयुक्त राज्य अमेरिका
(2) जर्मनी
(3) ब्राजील
(4) अर्जेन्टीना

7. निम्नांकित विचारकों में से किसने राजनीतिक निर्णय लेने के लिये लोकतान्त्रिक पद्धति को ‘संस्थागत व्यवस्था के रूप में वर्णित किया है, जिसमें व्यक्ति लोगों के वोट के लिये प्रतिस्पर्धी संघर्ष के माध्यम से निर्णय लेने की शक्ति प्राप्त करते हैं ?’
(1) जोसेफ शुम्पीटर
(2) सी.डब्लू. मिल्स
(3) टॉम बोटामोर
(4) कार्ल काटस्की

8. निम्नांकित विचारकों में से कौन ‘समाजवादी बहुलवाद’ की सिफारिश करता है जिससे उसका अर्थ राज्य के लोकतन्त्रीकरण से है ?
(1) जोशुआ कोहेन
(2) पाउलन्टाज
(3) एन्टोनियो ग्राम्शी
(4) जूलियस न्यरेरे

9. निम्नांकित में से कौन सा ‘यूरो साम्यवाद’ का लक्षण नहीं है ?
(1) यह एक दलीय व्यवस्था का विरोधी है।
(2) यह सर्वहारा वर्ग के अधिनायकवाद का विरोधी है।
(3) यह बहुदलीय व्यवस्था की आवश्यकता पर जोर देता है।
(4) यह श्रमिक संघों की आवश्यकता का विरोधी

10. निम्नांकित में से किसने ‘विमर्शी लोकतन्त्र’ (डेलिबरेटिव डेमोक्रेसी) शब्दावली को गढ़ा ?
(1) जॉन रॉल्स
(2) क्विन्टन स्कीनर
(3) मिल्टन फ्रीडमैन
(4) जोसेफ बिसेट

11. निम्नांकित में से ‘दी रिवोल्ट ऑफ दी मासेज’ पुस्तक का लेखक कौन है ?
(1) विल्फ्रेडो फ्रेडरिको डेमासो पेरेटो
(2) जॉस ऑर्टेगा वाई गेसेट
(3) जोसेफ शुम्पीटर
(4) रॉबर्ट मिचेल्स

Read Also ...  RPSC College Lecturer Exam 22 Sep 2021 Paper III (General Studies of Rajasthan) Answer Key

Click To Show Answer/Hide

Answer – (2)

12. निम्नांकित में से कौन से विद्वान ने जॉन रॉल्स के चिन्तन को ग्लेस्टनवादी एवं स्पेन्सरवादी’ माना है ?
(1) एन्टानी फ्ल्यू
(2) एमी गटमैन
(3) ब्रायन बैरी
(4) रॉबर्ट नॉजिक

13. कथन (A) : सी.बी. मेक्फरसन ने प्रारंभिक उदारवाद को स्वामिगत व्यक्तिवाद के रूप में चित्रित किया है।
कारण (R) : यह व्यक्ति को अपनी क्षमताओं के मालिक के रूप में मानता है, उसके पास समाज के लिये कुछ भी नहीं है।
(1) (A) सत्य है किन्तु (R) असत्य है।
(2) (A) असत्य है किन्तु (R) सत्य है।
(3) (A) और (R) दोनों सत्य हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(4) (A) और (R) दोनों सत्य हैं किन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।

14. निम्नांकित में से किसने यह विचार प्रस्तुत किया है कि ‘फ्रांस में शासन-प्रणाली की वैधता सुनिश्चित करने हेतु बोनापार्टवाद बुर्जुआ के एक हिस्से और सर्वहारा एक हिस्से के बीच अवसरवादी और लोकलुभावन गठजोड़ था’?
(1) कार्ल मार्क्स
(2) वी.आई.लेनिन
(3) जोसेफ स्टालिन
(4) लिओन ट्राटस्की

15. चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने अपनी कौन सी राष्ट्रीय कांग्रेस में यह घोषणा की कि ‘चीन की आर्थिक व्यवस्था का उद्देश्य चीनी लक्षणों के साथ समाजवादी बाजार व्यवस्था स्थापित करना है ?
(1) नवीं
(2) दसवीं
(3) ग्यारहवीं
(4) चौदहवीं

16. निम्नांकित में से किसने थॉमस एक्वीनास को स्पष्ट रूप से दोहराते हुए कहा कि अधिकार और शक्ति भगवान से ली गई है ?
(1) एलेक्स डी टोक्विले
(2) लुइस गेब्रियल डी बोनाल्ड
(3) बरट्रेन्ड रसैल
(4) बरट्रेन्ड डी जुवेनेल

Read Also ...  RPSC (Group-B) School Lecturer (School Education) Music Exam Paper 2020 (Answer Key)

Click To Show Answer/Hide

Answer – (2)

17. निम्नांकित विचारकों में से किसने यह चेतावनी दी कि समाज में सभी प्राकृतिक प्राधिकारियों के क्षरण की कीमत सरकार का बढ़ता सैन्य वर्चस्व है ?
(1) एडमण्ड बर्क
(2) जोसेफ डी माइस्त्रे
(3) फ्रेडरिक जेमसन
(4) ज्यां फ्रेंको ल्योटार्ड

18. निम्नांकित में से संविधान के उद्देश्य कौन से हैं ?
(A) राज्यों को मजबूती प्रदान करना ।
(B) मूल्यों एवं लक्ष्यों को एकजुट करना ।
(C) शासन को वैधता प्रदान करना ।
कूट:
(1) केवल (A) और (B)
(2) केवल (A) और (C)
(3) केवल (B) और (C)
(4) (A), (B) और (C)

19. निम्नांकित विचारकों में से किसने यह विचार व्यक्त किया है कि यदि राजनीतिज्ञों को अपने निर्णय का उपयोग करने की अनुमति दी जाती है, तो वे उस लाभ का उपयोग अपने स्वयं के स्वार्थ को आगे बढ़ाने के लिये करेंगे । संविधान के बिना सरकार अधिकारविहीन सत्ता है।
(1) डेविड ह्यूम
(2) थॉमस पेन
(3) जेम्स जौल
(4) पेट्रिक ओ हैनरी

20. अल्बर्ट वेन डायसी के ब्रिटिश संविधान से सम्बंधित निम्न कथनों पर विचार कीजिये :
(i) कोई भी व्यक्ति कानून से ऊपर नहीं है और यह कानून ही है जो सभी को नियन्त्रित करता है।
(ii) संसद की संप्रभुता और सामान्य कानून की सर्वोच्चता ब्रिटिश संविधान के दो आधार थे और इन सिद्धान्तों पर आधारित समाज ने राजनीतिक स्वतन्त्रता को संरक्षित करना और लोकतंत्र के सामंजस्यपूर्ण कामकाज को सुनिश्चित करना संभव बना दिया।
(1) केवल (i) सही है।
(2) केवल (ii) सही है।
(3) (i) और (ii) दोनों सही हैं ।
(4) न तो (i), और न ही (ii) सही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!