Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) Part 05

Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) का प्रयोग सामान्यत: उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) और उच्च न्यायालय (High Court) में किया जाता है, इन्हीं न्यायालयों के द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए यहाँ पर Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) के कुछ शब्दों के बारे में हम जानेंगे। यह अध्याय कई भागों (Parts) में होगा, जिसमे 20-20 Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) को जानेंगे। यह Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) का भाग – 5 है। 

Legal Glossary Part 05

 

1. आर्सन – किसी के द्वारा अपनी अथवा किसी दूसरे के घर, अथवा व्यावसायिक अशिवा औद्योगिक संपत्ति को दुर्भावना से जलाना।
ARSON The malicious burning of someone’s own house or of someone else’s house, or of someone’s commercial or industrial property.

2. असौल्ट – जब कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को चोट पहुंचाता है या चोट पहुंचाने का प्रयास करता है। इसमें हिंसा हो सकती है, शारीरिक हिंसा नहीं।
ASSAULT When someone tries or threatens to hurt someone else. Can include violence, but is not battery. 

3. असैस्मैंट – किसी मुकद्दमे में लगाए गए अतिरिक्त आरोप।
ASSESSMENT Additional charges added to a case. 

4. असाईनी – वह व्यक्ति अथवा व्यवसाय जिसे प्राथमिक लेनदार के स्थान पर रख दिया जाए, जैसे कि कोई वसूली करने वाली एजेंसी। आप अपने निर्णय को किसी अन्य व्यक्ति या व्यवसाय पर लागू कर सकते हैं।
ASSIGNEE A person or business that is put in the place of the original creditor, such as a collection agency. You can assign your JUDGMENT to another person or business.

5. असाईनमैंट – किसी कार्य को करने के लिए किसी व्यक्ति का चुनाव। अक्सर, जब कोई अदालत जजों अथवा वकीलों को मुकद्दमे सौंपने के लिए किसी कैलेंडर का प्रयोग करती है अथवा जब बच्चों का प्रतिनिधित्व करने के लिए वकीलों का चुनाव या नियुक्ति की जाती है और छुट्टी पर गए बीमार जजों के स्थान पर शरद के लिए दूसरे जजों को भेजने की प्रक्रिया।
ASSIGNMENT – Choosing someone to do something. Usually for: Cases – when the court uses a calendar to give (or “assign” cases to judges; Lawyers – when lawyers are chosen (or “appointed”) to represent juveniles, conservatees or defendants; and Judges – when judges are sent (or “assigned”) to different courts to fill in while other judges are on vacation, sick, etc., or to help with cases in a court.

Read Also ...  Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) Part 06

6. असाईनमैंट आर्डर – याचिका के बाद दिया गया अदालत का वह आदेश जिसमें जजमैंट डैटर को कहा जाता है कि वह कुछ अधिकार जजमैंट क्रेडिटर के साथ अवश्य बांटे। यह आदेश उन भुगतानों के लिए लाभदायक है जिन्हें जजमैंट डैटर अक्सर प्राप्त करता है, जैसे किराएदारों से किराया, संघीय सरकार प्रोमिसरी नोटिस अथवा जजमैंटस के भुगतान की किश्तों की राशि।
ASSIGNMENT ORDER A court order (made after a MOTION that says a JUDGMENT DEBTOR must assign certain rights to the JUDGMENT CREDITOR. Useful for payments that the judgment debtor would usually get, like rent from tenants, wages from the federal government, sales commissions, royalties, a business’s accounts receivable, or installment payments on IOUs (also called “PROMISSORY NOTES” or JUDGMENTS).

7. अजम्पशन आफ रिस्क – व्यक्तिगत हानि के लिए मुकद्दमे के प्रति बचाव का आधार। इस बचाव का सार यह है कि वादी ने जिस भी खतरनाक परिस्थिति के कारण चोट पहुंची उसके खतरे को सत्य मान लिया।
ASSUMPTION OF RISK A defense to a lawsuit for personal injury. The essence of the defense is that the plaintiff assumed the known risk of whatever dangerous condition caused the injury.

8. ऐट इशु – किसी मुकद्दमे में वह समय जब शिकायत करने वाले पक्ष ने अपना दावे को दायर कर दिया हो और दूसरे पक्ष ने अपने उत्तर में इसे स्वीकार करने से इंकार कर दिया हो और वह मुकद्दमे की कार्यवाही के लिए तैयार हो।
AT ISSUE The time in a lawsuit when the complaining party has stated his or her claim and the other side has responded with a denial and the matter is ready to be tried.

Read Also ...  Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) Part 02

9. अटैस्ट – गवाही देना, सत्य अथवा असली घोषित करना, प्रमाणित करना।
ATTEST To witness, to affirm to be true or genuine, to certify. 

10. अटैस्टेशन – किसी पक्ष के आवेदन पर किसी बात को लिखित रूप में प्रमाणित करने की कार्यवाही।
ATTESTATION – The act of witnessing something in writing, at the request of a party.

11. अटौर्नी – वह व्यक्ति जो अदालत में मुवक्किलों का प्रतिनिधित्व करे और उन्हें कानूनी सलाह देने की योग्यता रखता हो।
ATTORNEY Someone that is qualified to represent clients in court and to give them legal advice.

12. अटार्नी आफ रिकार्ड – वह वकील जिसके नाम का उल्लेख किसी मुकद्दमे में किसी मुवक्किल के प्रतिनिधि के रूप में किया गया हो।
ATTORNEY OF RECORD The lawyer whose name is listed in a case record as representing someone in the case.

13. अटार्नी-ऐट-ला – अदालतों में मुकद्दमों की तैयारी, प्रबंध एवं जिरह के लिए जिस वकील अथवा सरकारी अधिकारी की सेवा ली जाती है।
ATTORNEY-AT-LAW An advocate, counsel, or official agent employed in preparing, managing, and trying cases in the courts.

14. ओडिट – जब रिकार्ड और खातों की परख यह जानने के लिए की जाती है कि वे ठीक तथा पूर्ण हैं।
AUDIT When records or accounts are looked at to check that they are right and complete.

15. औथैटीकेट – किसी कानून, रिकार्ड अथवा किसी अन्य लिखित दस्तावेज को अधिकार अथवा कानूनी वैद्यता प्रदान करना।
AUTHENTICATE To give authority or legal authenticity to a statute, record, or other written document.

Read Also ...  Legal Glossary (कानूनी शब्दावली) Part 04

16. औटो टैंपरिंग – किसी वाहन तथा इसके कजपुर्जा की किसी विशेष उद्देश्य से व्यवस्था करना।
AUTO TAMPERING The manipulation of an automobile and its parts for a specific purpose.

17. बैक लोग – वे सभी मुकद्दमे जिनका निर्णय कानून द्वारा नीयत समय में किया जा चुका  है।
BACKLOG All the cases that haven’t been settled or decided in the time the law says they should be.

18. बैड फेथ – साधारणतः इस का अर्थ है वास्तविक अथवा रचनात्मक धोखाधड़ी अथवा किसी को गुमराह या धोखा देने की योजना।
BAD FAITH – Generally implies actual or constructive fraud, or a design to mislead or deceive another.

19. बेल – किसी प्रतिवादी अथवा को हिरासत से छुड़ाने के लिए और अदालत में उसकी पेशी को यकीनी बनाने के लिए दी जाने वाली जमानत की राशि
BAIL A security deposit (usually money) given to release a defendant or witness from custody and to make sure that they go to court when they’re supposed to.

20. बेल बौंड – वह कानूनी दस्तावेज जो आप किसी स्टैम्प-पेपर बेचने वाले से खरीद कर जमानत की राशि के बदले अदालत में देते हैं। प्रतिवादी इस पर हस्ताक्षर कर इसे सौंप देता है। यदि वे पेशी पर अदालत में उपस्थित नहीं होते तो उनको बेल-बौंड पर लिखी राशि का भुगतान करना पड़ता है।
BAIL BOND A legal paper that you buy from a bondsman and give to the court instead of bail. The defendant signs it and is let go. But if they don’t come to court when they’re supposed to, they must pay the amount of money on the bail bond.

 

Read Also …

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!