UPPSC Pre Exam Paper II (CSAT) 12 June 2022 (Answer Key)

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC – Uttar Pradesh Public Service Commission) द्वारा आयोजित UPPSC PCS (Provincial Civil Services), ACF (Assistant Conservator of Forest) and RFO (Range Forest Officer) की प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Examination) 12 जून 2022 को आयोजित की गई। इस परीक्षा का हल (Solved) सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्नपत्र (General Studies – 2nd Paper) यहाँ पर उपलब्ध है।

UPPSC Uttar Pradesh Public Service Commission Conduct the UP PCS, ACF and RFO Pre Exam on 12 June 2022. This Question Paper 2 – General Studies (CSAT) Answer Key Available Here . 

Exam – UPPCS Pre Exam 2022
Subject – Paper – II (General Studies)  
Number Of Questions – 100

Date of Exam – 12 June, 2021
Booklet Series – D

Uttar Pradesh PCS Pre Exam Paper 2022
Paper II (CSAT)
(Answer Key)

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र – II

1. निम्नलिखित में शुद्ध शब्द है
(a) लब्धप्रतिष्ठत
(b) लुब्धप्रतिष्ठ
(c) लब्धप्रतिष्ठ
(d) लब्धप्रतिष्ठ

2. निम्नलिखित में से अविकारी शब्द नहीं है
(a) क्रियाविशेषण
(b) सर्वनाम
(c) सम्बन्धसूचक
(d) समुच्चयबोधक

3. अनेकार्थी शब्द ‘पतंग’ का इनमें से एक अर्थ नहीं है
(a) बादल
(b) नाव
(c) चंग
(d) पक्षी

4. निम्नलिखित में तत्सम शब्द है
(a) आम
(b) काष्ठ
(c) हाथ
(d) दूध

5. ‘जिसका उत्तर देकर खण्डन किया गया हो।’ इस वाक्यांश के लिए एक शब्द है
(a) प्रत्युत्तर

(b) प्रत्युच्चार
(c) विवृत्ति
(d) प्रत्युक्त

Read Also ...  UPPSC PCS, ACF and RFO Pre Exam 2019 Paper - II (Official Answer Key)

Click To Show Answer/Hide

Answer – (*)

6. निम्नलिखित वाक्यों में से एक शुद्ध वाक्य है
(a) वह सातवें कक्षा में पढ़ता है ।
(b) सरयू नदी का पाट बहुत लम्बा है ।
(c) जो लोग बाहर जाना चाहते हैं, वह जा सकते हैं ।
(d) कृपया एक गिलास पानी दीजिए ।

7. इनमें से मुहावरे तथा उसके अर्थ को सुमेल कीजिए तथा सही विकल्प का चयन कीजिए ।

मुहावरा अर्थ
क) छाती लगाना  अ) प्रसन्नता से फूले न समाना ।
ख) छाती पर साँप लोटना  ब) बहुत अधिक दुःख या वेदना होना ।
ग) छाती उमड़ना  स) ईर्ष्या के कारण व्यथित होना ।
घ) छाती फटना  द) आलिंगन करना ।

कूट :
(a) क-द, ख-अ, ग-ब, घ-स
(b) क-अ, ख-स, ग-द, घ-ब
(c) क-द, ख-स, ग-अ, घ-ब
(d) क-ब, ख-द, ग-अ, घ-स

8. निम्नलिखित शब्दों में प्रेरणार्थक क्रिया है
(a) चलना
(b) दिलवाना
(c) जीना
(d) लिखना

9. आदर्शिका का तद्भव शब्द है
(a) आँच
(b) आरसी
(c) आदर्श
(d) अदरक

10. निम्नलिखित में कौन-सा वर्ण तालव्य नहीं है ?
(a) च
(b) झ
(c) क
(d) छ

11. इनमें से ‘अरण्य’ शब्द का पर्यायवाची शब्द है
(a) शस्य
(b) कुलीन
(c) कांतार
(d) आभारी

12. निम्नलिखित में से एक शब्द की वर्तनी में हलन्त-सम्बधिं अशुद्धि है, वह शब्द है
(a) श्रीमान्
(b) परिषद्
(c) सम्राट
(d) श्रीयुत्

Read Also ...  UPPCS Prelims 2015 - General Studies Paper II (CSAT) (Canceled)

Click To Show Answer/Hide

Answer – (*)

13. इसमें से ‘किन्नर’ का सन्धि-विच्छेद है ।
(a) किम् + नर
(b) किन्न् + अर
(c) किन् + नर
(d) कित् + नर

14. पश्चिमी हिन्दी का विकास किस अपभ्रंश से हुआ है ?
(a) पैशाची
(b) मागधी
(c) ब्राचड़
(d) शौरसेनी

15. तत्सम-तद्भव शब्दों का कौन-सा युग्म असंगत है ?
(a) छत्र – छत
(b) चैत्र – चैत
(c) चक्र – चक्का
(d) पत्र – पर्ण

प्रश्न संख्या 16 से 20 के लिए :

अधोलिखित गद्यांश को ध्यान से पढ़िए तथा प्रश्न संख्या 16 से 20 के उत्तर इस गद्यांश के आधार पर दीजिए :

हमारा जीवन पाखंडमय बन गया है और हम इसके बिना रह नहीं सकते हैं। अपने सार्वजनिक जीवन अथवा निजी जीवन में कहीं भी देखें हम एक दूसरे को छलने की कला का खुलकर उपयोग करते है, इसके बावजूद यह विश्वास करते हैं कि हम ऐसा कुछ भी नहीं कर रहें हैं । हम इस प्रकार की भाषा का प्रयोग करते हैं जिसकी उस अवसर पर कोई आवश्यकता नहीं होती । हम किसी भी बात को यह जानते हुए कि वह सही अथवा सत्य नहीं है लेकिन उसके प्रति निष्ठा या विश्वास इस तरह प्रकट करते हैं जैसे हमारे लिए वही एक मात्र सत्य है । हम सब इसलिए सरलता से कर लेते हैं क्योंकि आज पाखंड एवं दिखावा हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। आज हम में से अधिकांश लोगों की स्थिति ‘मुंह में कुछ और मन में कुछ और’ वाली बन गयी है।

Read Also ...  उत्तर प्रदेश PCS - 2014 हल (Solved) प्रश्नपत्र - सामान्य अध्ययन 1st

16. यह जानते हुए कि बात गलत है, हम उसके प्रति निष्ठा क्यों प्रकट करते हैं क्योंकि
(a) हम दिखावा करना चाहते हैं
(b) पाखण्ड और दिखावा हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया है
(c) दूसरों को छलना चाहते हैं
(d) असत्य को सत्य में बदलना चाहते हैं

17. गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक है
(a) पाखंड आधुनिक जीवन का सत्य
(b) निष्ठा एवं विश्वास
(c) सार्वजनिक जीवन
(d) दिखावा

18. ‘मुंह में राम बगल में छुरी’ इसका अर्थ इनमें से किस वाक्य से पता चलता है ?
(a) हमारा जीवन पाखण्डमय बन गया है और हम इसके बिना नहीं रह सकते हैं
(b) छलने की कला का खुलकर उपयोग करते हैं
(c) हम इस प्रकार की भाषा का प्रयोग करते हैं जिसकी इस अवसर पर कोई आवश्यकता नहीं होती
(d) मुंह में कुछ और मन में कुछ और

19. ‘छलने की कला का’ हम किस प्रकार उपयोग करते हैं ?
(a) खुलकर
(b) सरलता से
(c) आवश्यकतानुसार
(d) पूरी निष्ठा से

20. हमने जीवन का अभिन्न अंग किसे बना लिया है ?
(a) भाषा को
(b) सरलता को
(c) पाखंड और दिखावे को
(d) निष्ठा एवं विश्वास को

1 Comment

  1. There are no answers marked. Also the English version of the paper for part other than Hindi subject questions is not available.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!