उत्तराखंड के ऐतिहासिक स्त्रोत से सम्बंधित प्रश्नोत्तर

उत्तराखंड के ऐतिहासिक स्त्रोत से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर यहाँ पर दिए गए है, जो उत्तराखंड के विभिन्न परीक्षों की दृष्टि से बहुत लाभदायक होंगे।

Important questions related to the historical sources of Uttarakhand are given here, which will be very beneficial from the point of view of various examinations of Uttarakhand.

उत्तराखंड के ऐतिहासिक स्त्रोत से सम्बंधित प्रश्नोत्तर
(Questions related to the historical source of Uttarakhand)

1. महाभारत काल में हरिद्वार को किस नाम से जाना जाता था ? —गंगा द्वार

2. महाभारत काल में केदारनाथ को किस नाम से जाना जाता था ? भृंगतुंग

3. स्कन्दपुराण में गढ़वाल क्षेत्र को किस नाम से जाना जाता था ? — केदारखण्ड

4. स्कन्दपुराण में कुमाऊं क्षेत्र को किस नाम से जाना जाता था ? — मानसखण्ड

5. किस शासक के शासनकाल में चीनी यात्री ह्वेनसांग उत्तराखंड की यात्रा में आया था ? — हर्षवर्धन के शासनकाल में

6. ह्वेनसांग ने अपनी यात्रा वृतांत में हरिद्वार का उल्लेख किस नाम से किया है ? — मो-यू-लो

7. ह्वेनसांग ने अपनी यात्रा वृतांत में हिमालय का उल्लेख किस नाम से किया है ? — पो-लि-हि-मो-यू-ला अथवा ब्रह्मपुर राज्य

8. किस कश्मीरी शासक ने गढ़वाल पर विजय प्राप्त की ? — ललितादित्तय मुक्तापीड़ ने (इसका उल्लेख कल्हण की पुस्तक राजतरंगिणी में है)

9. मालूशाही क्या है? — इसमें मालूशाह की गाथा को गेय रूप में प्रस्तुत किया जाता है। यह मूलतः राजूली और मालू की प्रेमगाथा है।

10. पावड़े अथवा भड़ौ क्या है ? — ‘भड़’ का अर्थ वीर अथवा योद्धा होता है, किसी वीर के सम्बन्ध में गाये जाने वाली लोकगाथाएँ भड़ौ अथवा पावड़े कहलाती है। और इनको गाने वाले ‘भाट’ कहलाते है।

Read Also ...  उत्तराखण्ड के प्राचीनतम निवासी (Oldest inhabitants of Uttarakhand)

11. उत्तराखंड में प्रागैतिहासिक चित्रित शैलाश्रयों की पहली खोज कब और कहाँ हुई ? — 1968 ई. में सुयाल नदी के बाएँ तट (अल्मोड़ा) पर लखु उड्यार। 

12. ग्वरख्या उड्यार कहाँ स्थित है ? — अलकनंदा घाटी में (चमोली जनपद)

13. श्वेत रंग से चित्रित शिलाश्रय कहाँ से प्राप्त हुई ? — किमना ग्राम (चमोली जनपद)

14. गैरिक भाण्ड सदृश मृदभाण्ड (Orehro Coloured Pots)कहाँ से प्राप्त हुए है ? — बहादराबाद (हरिद्वार जनपद)

15. त्रिशुल पर अभिलेख उत्कीर्ण कहाँ से मिले है ? — गोपेश्वर तथा बाड़ाहाट (उत्तरकाशी) से जो संभवतः कत्यूरीकाल से सम्बंधित है

16. बागेश्वर लेख से किस कत्यूरी राजा की जानकारी मिलती है ? — बसंतदेव खर्परदेव, राजनिंबर के वंशों की

17. अशोक का अभिलेख कहाँ से प्राप्त हुआ ? — कालसी (देहरादून जनपद)

18. लाखामंडल से प्राप्त अभिलेख से किन राजाओं की जानकारी प्राप्त होती है ? — छागलेश नामक राजाओं की

19. बास्ते ताम्रपत्र कहाँ से प्राप्त हुआ है ? — पिथौरागढ़

20. बास्ते ताम्रपत्र में किसका उल्लेख है? — गोरखा सेनानायक मोहन थापा और कुछ मांडलिको का

 

Read Also :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!