मुरादाबाद (Moradabad)

मुरादाबाद जनपद का परिचय (Introduction to Moradabad District)

स्थिति (Location)

  • उपनाम –ब्रास सिटी’ या पीतल नागरी
  • मुख्यालय – मुरादाबाद
  • मंडल मुरादाबाद 
  • अस्तित्व – 1600 ई.
  • क्षेत्रफल – 3,718 वर्ग किमी
  • सीमा रेखा
  • राष्ट्रीय राजमार्ग – NH-24
  • नदियाँ – राम गंगा और गंगा नदी

प्रशासनिक (Administrative)

  • विधानसभा क्षेत्र – 1 (मुरादाबाद)
  • लोकसभा सीट – 6 (मुरादाबाद कांठ, ठाकुरद्वारा,बिलारी, मुरादाबाद ग्रामीण, मुरादाबाद शहर, कुन्दरकी)
  • तहसील –  4 (मुरादाबाद, बिलारी, कांठ, ठाकुरद्वारा)
  • विकासखंड (ब्लाक)  – 8 (मुरादाबाद, मुण्डापाण्डे, भगतपुर टाण्डा, बिलारी, कुन्दरकी, छजलैट, ठाकुरद्वारा, डिलारी)
  • कुल ग्राम – 1210
  • कुल ग्राम पंचायत – 584
  • नगर पालिका – 2 (ठाकुरवाड़ा, बिलारी)
  • नगर निगम – 1 (मुरादाबाद)
  • नगर पंचायत – 7 (ढकिया, भोजपुर धर्मपुर, अग्रवनपुर, कंथ, उमरी कलान, कुंडारकी, पकबरा)

जनसंख्या (Population)

  • जनसंख्या – 47,72,006
    • पुरुष जनसंख्या – 25,03,186
    • महिला जनसंख्या – 22,68,820
  • शहरी जनसंख्या – 1,573,623 (32.98 %)
  • ग्रामीण जनसंख्या – 3,198,383 (67.02%)
  • साक्षरता दर – 56.77%
    • पुरुष साक्षरता – 64.83%
    • महिला साक्षरता – 47.86%
  • जनसंख्या घनत्व – 1,283
  • लिंगानुपात –  906
  • जनसंख्या वृद्धि दर – 25.22%
  • हिन्दू जनसंख्या – 2,488,265 (52.14 %)
  • मुस्लिम जनसंख्या – 2,248,392 (47.12 %)
  • ईसाई जनसंख्या – 13,157 (0.28 %)

Population Source – census2011.co.in

संस्थान व प्रमुख स्थान (Institution & Prime Location)

  • कॉलेज – आईएफटीएम यूनिवर्सिटी, एमआईटी, केजीके डिग्री कॉलेज, तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी, दयानंद आर्य कन्या डिग्री कॉलेज मुरादाबाद, मुस्लिम गर्ल्स डिग्री कॉलेज, हिंदू डिग्री कॉलेज मुरादाबाद।
  • प्रसिद्ध धार्मिक स्थल – साईं मंदिर मुरादाबाद।
  • प्रसिद्ध पर्यटक स्थल – गौतम बुद्ध पार्क मुरादाबाद।
  • मेला/महोत्सव – नव रात्रि उत्सव, दशहरा, गणेश चतुर्दशी उत्सव।
  • उद्योग – पीतल उद्योग, काँच के उपकरण, सूती कपड़ा उद्योग।
  • प्रमुख संस्थान – सूचना प्रौद्योगिकी पार्क, सोलर सिटी, ऊर्जा शहर।
Read Also ...  उत्तर प्रदेश के प्रमुख शिक्षण संस्थान

Notes –

  • मुरादाबाद शहर की स्थापना राम गंगा नदी के तट पर मुगल शासक शाहजहाँ के पुत्र मुराद ने की थी
  • इसके पहले 1624 ई. में सम्भल के गवर्नर रुस्तम खान द्वारा इस जगह का नाम रुस्तम खान नगर रखा गया
  • मुरादाबाद विशेष रूप से प्राचीन समय की हस्तकला, पीतल के उत्पादों पर की रचनात्मकता और हॉर्न हैंडीक्रॉफ्ट के लिए सबसे अधिक प्रसिद्ध है
  • यह शहर उत्तरी अमरीका व यूरोप को पीतल हस्तशिल्प के बड़े निर्यात के लिए प्रसिद्ध है
  • मुरादाबाद से पीतल के साथ-साथ काँच की बनी वस्तुएँ दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं
  • तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम, गुजराती, मराठी, कश्मीरी भाषाओं का प्रशिक्षण केन्द्र – मुरादाबाद
  • प्रदेश का दूसरा जिला जहाँ सर्वाधिक अल्पसंख्यक मुरादाबाद (46:12%)
  • मुरादाबाद का हस्तशिल्प उद्योग भारत से कुल हस्तकला निर्यात का 40% से अधिक है।

 

Read Also :

Related Post ….

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!