रामपुर (Rampur)

रामपुर जनपद का परिचय (Introduction to Rampur District)

स्थिति (Location)

  • उपनाम – नवाबों का शहर, चकुओं का नगर
  • मुख्यालय – रामपुर 
  • मंडल मुरादाबाद
  • अस्तित्व – 1775
  • क्षेत्रफल –  2,367 वर्ग किमी
  • सीमा रेखा
    • पूर्व में – बरेली,
    • पश्चिम में – मुरादाबाद,
    • उत्तर में – उत्तराखंड राज्य
    • दक्षिण में –  बदायूं
  • राष्ट्रीय राजमार्ग – NH-24, NH-87
  • नदियाँ – कोसी, रामगंगा
  • झील – मोती व गौरी झील

प्रशासनिक (Administrative)

  • विधानसभा क्षेत्र –  6 (रामपुर, चमरवा, बिलासपुर, स्वार, मिलक)
  • लोकसभा सीट – 1 (रामपुर)
  • तहसील – 6 (टांडा, बिलासपुर, मिलक, शाहाबाद, सदर, स्वार)
  • विकासखंड (ब्लाक)  – 6 (चमरवा, बिलासपुर, मिलक, शाहाबाद, सैदनगर, स्वार)
  • कुल ग्राम – 1200
  • नगर पालिका – 5 (परिषद् टांडा, बिलासपुर, मिलक, रामपुर, स्वार)
  • नगर पंचायत – 3 (केमरी, मसवासी, शाहाबाद)

जनसंख्या (Population)

  • जनसंख्या – 23,35,819
    • पुरुष जनसंख्या – 12,23,889
    • महिला जनसंख्या – 11,11,930
  • शहरी जनसंख्या – 5,88,647 (25.20 %)
  • ग्रामीण जनसंख्या – 17,47,172 (74.80 %)
  • साक्षरता दर – 53.34%
    • पुरुष साक्षरता – 61.40%
    • महिला साक्षरता – 44.44%
  • जनसंख्या घनत्व – 987
  • लिंगानुपात – 909 
  • जनसंख्या वृद्धि दर – 21.42%
  • हिन्दू जनसंख्या – 10,73,890 (45.97 %)
  • मुस्लिम जनसंख्या – 11,81,337 (50.57 %)
  • सिख जनसंख्या – 65,316 (2.80 %)
  • ईसाई जनसंख्या – 9,201 (0.39 %)

Population Source – census2011.co.in

संस्थान व प्रमुख स्थान (Institution & Prime Location)

  • कॉलेज – राजकीय महिला डिग्री कॉलेज रामपुर, राजकीय रज़ा डिग्री कॉलेज रामपुर, मुहम्मद अली जोहर विश्वविद्यालय (2006)
  • प्रसिद्ध धार्मिक स्थल – जामा मस्जिद रामपुर
  • मेला/महोत्सव – फाग महोत्सव
  • पर्यटक स्थल – रामपुर रज़ा लाइब्रेरी, गाँधी समाधी, रामपुर प्लेनेटरीम, कोठी खास बाग, अम्बेडकर पार्क
  • उद्योग – चाकू उद्योग, चीनी उद्योग, वस्त्र उद्योग तथा चीनी मिट्टी उद्योग, दियासलाई उद्योग, स्प्रिट व शराब उद्योग, साइकिल उद्योग
  • संग्रहालय  – डॉ. भीमराव अम्बेडकर संग्रहालय एवं पुस्तकालय (2004)
Read Also ...  बलरामपुर जनपद (Balrampur District)

Notes –

  • रामपुर जिला मुरादाबाद मण्डल का एक जिला है।
  • मध्यकालीन युग में रामपुर दिल्ली के शासकों के अधीन था।
  • रामपुर नगर का नाम राजा राम सिंह के नाम से नवाब फैजुल्ला खान द्वारा 1775 ई. में किया गया।
  • फैजुल्ला खान ने 1775 ई. में रामपुर में एक किले का निर्माण करवाया।
  • नवाब फैजुल्ला खान ने लगभग 20 वर्ष तक शासन किया।
  • उन्होंने उर्दू और तुर्की की पांडुलिपियों को पुस्तकालय में संग्रहित किया।
  • रामपुर के आखिरी नवाब रजा अली खान 1930 ई. में बने थे।
  • इसके बाद 1949 ई. में इसे भारतीय गणराज्य में शामिल कर लिया गया।
  • रामपुर के नवाबों का इस क्षेत्र की संस्कृति पर विशेष रूप से कला, साहित्य और संस्कृति का अधिक प्रभाव पड़ा है।
  • नवाब फैजुल्ला खाँ ने 1774 ई. में रामपुर लाइब्रेरी की नींव रखी।
  • इस लाइब्रेरी में बेशकीमती खजाना है, जो रामपुर के नवाबों की देन है।
  • नवाब कल्बे अली खाँ जब 1872 में हज पर गए, तो वहाँ से ढेर सारी पांडुलिपियाँ अपने साथ ले आए थे, जो आज भी लाइब्रेरी में मौजूद हैं।
  • इस रजा लाइब्रेरी में हिन्दू, उर्दू, अंग्रेजी, मराठी, हिन्दुस्तानी जवानों के अलावा फ्रेंच, जर्मन, रशियन और अंग्रेजी जबानों की ढेर सारी किताबें मौजूद हैं।
  • रजा लाइब्रेरी की इस इमारत के अंदर पत्थर की चौदर खूबसूरत मूर्तियाँ लगी हैं, जिसके लिए इटली से पत्थर मँगवाया गया था।
  • खास बात यह है कि ये मूर्तियाँ एक ही पत्थर को तराशकर बनाई गई हैं।
  • इसी लाइब्रेरी में हजरत अली द्वारा चमड़े पर लिखा हुआ कुरान भी रखा हुआ है।
  • आज इस लाइब्रेरी को दुनियाभर के पाठकों के लिए ऑनलाइन कर दिया गया है।
  • अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति के महान् सितारवादक ‘भारतरत्न’ पण्डित रविशंकर रामपुर के महान् सितारज्ञ उस्ताद अलाउद्दीन खाँ के प्रमुख शिष्य तथा दामाद भी हैं।
  • मिट्टी – काली
Read Also ...  कानपुर नगर (Kanpur Nagar)

रामपुर घराना 

  • संगीत घराना – रामपुर
  • जोकि एक नृत्य की संस्कृति से जुड़ा हुआ है।
  • रामपुर घराना ग्वालियर घराने से उत्पन्न हुआ है, जिसकी स्थापना उस्ताद वजीर खाँ ने की।
  • यह घराना ‘तराना’ गायकी में विशेषज्ञ माना जाता है।

 

Read Also :

Related Post ….

 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!