वाराणसी जनपद (Varanasi District)

वाराणसी जनपद का परिचय (Introduction of Varansi District)

वाराणसी की स्थिति (Location of Varansi)

  • मुख्यालय – वाराणसी
  • पुराना नाम व उपनाम – विश्वनाथ नगरी, मुक्ति नगर, घाटोंका नगर, मंदिरों का शहर, भारत की धार्मिक राजधानी, भगवान शिव की नगरी, दीपों का शहर, ज्ञान नगरी, बनारस और काशी
  • मंडल – वाराणसी
  • क्षेत्रफल – 1535 वर्ग किमी
  • सीमा रेखा
    • पूर्व में –  चंदौली
    • पश्चिम में भदोली
    • उत्तर में – जैनपुर एवं गाजीपुर
    • दक्षिण में – मिर्जापुर
  • राष्ट्रीय राजमार्ग NH-233, NH-056, NH-029, NH-002
  • नदियाँ/नहरें – वरुणा, अस्ति, गंगा, बेलगाम, गोमती, कर्मनाशा, चंद्रप्रभा, गडई
  • परियोजनाएँ – रिहन्द घाटी, अहरौरा घाटी

वाराणसी की प्रशासनिक परिचय (Administrative Introduction of Varansi)

  • विधानसभा क्षेत्र – 8 (शिवपुर, पिन्ड्रा, अजगरा, वाराणसी दक्षिण, वाराणसी उत्‍तर, वाराणसी कैन्टोनमेंट, सेवापुरी, रोहनिया)
  • लोकसभा सीट – 1 (वाराणसी)
  • तहसील – 3 (सदर, पिंड्रा, राजातालाब)
  • विकासखंड (ब्लाक)   8 (सेवापुरी, चिरईगांव, आराजी लाइन्स, पिण्ड्रा, चोलापुर, काशीविद्यापीठ, बडागांव, हरहुआ)
  • कुल ग्राम 1360
  • कुल ग्राम पंचायत 760
  • नगर पालिका परिषद 1 (वाराणसी)
  • नगर पंचायत – 2 (रामनगर, गंगापुर)

वाराणसी की जनसंख्या (Population of Varansi)

  • जनसंख्या – 36,76,841
    • पुरुष जनसंख्या – 19,21,857
    • महिला जनसंख्या – 17,54,984
  • शहरी जनसंख्या – 15,97,051 (43.44 %)
  • ग्रामीण जनसंख्या – 20,79,790 (56.56 %)
  • साक्षरता दर – 75.60%
    • पुरुष साक्षरता – 83.78 %
    • महिला साक्षरता – 66.69%
  • जनसंख्या घनत्व – 2,395
  • लिंगानुपात – 913
  • जनसंख्या वृद्धि दर – 17.15%
  • हिन्दू जनसंख्या – 31,07,681 (84.52 %)
  • मुस्लिम जनसंख्या – 5,46,987 (14.88 %)
  • इसाई जनसंख्या – 7,696 (0.21 %)

Population Source – census2011.co.in

वाराणसी के संस्थान व प्रमुख स्थान (Institution & Prime Location of Varansi)

  • धार्मिक स्थल – सारनाथ, काशी विश्वनाथ
  • प्रसिद्ध स्थल – गंगा  घाट
  • उद्योग – उच्च तकनीकी रेशम की बुनाई एवं डिजाइनिंग क्लस्टर, ब्रौकेड क्लस्टर, पेट्रोलियम उद्योग, ग्लास मोती क्लस्टर, हैंडलूम क्लस्टर, स्टोन कार्विंग क्लस्टर, ईंटों का उत्पादन, वुड क्लस्टर, विद्युतीय इकाइयां, कृषि आधारित, पेय उत्पाद
  • अभयारण्य – कछुआ वन्यजीव विहार 
Read Also ...  कानपुर देहात (Kanpur Dehat)

Notes –

  • वाराणसी संसार के प्राचीनतम बसे शहरों में से एक और भारत का प्राचीनतम बसा शहर है। भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का प्रसिद्ध नगर है। इसे ‘बनारस’ और ‘काशी’ भी कहते हैं।
  • हिन्दू धर्म में सर्वाधिक पवित्र नगरों में से एक माना जाता है और इसे अविमुक्त क्षेत्र कहा जाता है। इसके अलावा बौद्ध एवं जैन धर्म में भी इसे पवित्र माना जाता है।
  • वाराणसी को प्रायः ‘मंदिरों का शहर’, ‘भारत की धार्मिक राजधानी’, ‘भगवान शिव की नगरी’, ‘दीपों का शहर’, ‘ज्ञान नगरी’ आदि विशेषणों से संबोधित किया जाता है।
  • प्रसिद्ध अमरीकी लेखक मार्क ट्वेन लिखते हैं: “बनारस इतिहास से भी पुरातन है, परंपराओं से पुराना है, किंवदंतियों (लीजेन्ड्स) से भी प्राचीन है और जब इन सबको एकत्र कर दें, तो उस संग्रह से भी दोगुना प्राचीन है।”
  • गोस्वामी तुलसीदास ने हिन्दू धर्म का परम-पूज्य ग्रंथ रामचरितमानस यहीं लिखा था और गौतम बुद्ध ने अपना प्रथम प्रवचन यहीं निकट ही सारनाथ में दिया था।
  • वाराणसी में चार बड़े विश्वविद्यालय स्थित हैं: बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइयर टिबेटियन स्टडीज़ और संपूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय। यहां के निवासी मुख्यतः काशिका भोजपुरी बोलते हैं, जो हिन्दी की ही एक बोली है।

 

Read Also :

Related Post ….

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!