UTET Exam 26 Nov 2021 Paper – 1 (Language 2 – Hindi) (Official Answer Key)

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद् (UBSE – Uttarakhand Board of School Education) द्वारा 26 नवम्बर 2021 को UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) की परीक्षा का आयोजन किया गया। UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) Exam 2021 Paper 1 – भाषा – II : हिंदी की उत्तरकुंजी (Language II : Hindi) यहाँ पर उपलब्ध है।

UBSE (Uttarakhand Board of School Education) Conduct the UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) 2021 Exam held on 26 November 2021. Here UTET Paper 1 Language II : Hindi Subject Paper with Official Answer Key.

UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test) Primary Level
(Class 1 to Class 5)

Exam :−  UTET (Uttarakhand Teachers Eligibility Test)
Part :− भाषा – II : हिंदी (Language II : Hindi)
Organized
by : UBSE

Number of Question :− 30
SET – A

Exam Date :– 26th November 2021

UTET 26 Nov 2021 (Primary Level)

UTET Primary Level Paper Official Answer Key Link
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (बाल विकास एवं शिक्षण विज्ञान Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Child Development and Pedagogy)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Language – I : Hindi)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Language – II : Hindi)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Language – II : Sanskrit)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Language – I : English)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Language – II : English)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (गणित Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Mathematics)  Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (पर्यावरण अध्ययन Click Here
UTET Exam 26 Nov 2021 – Paper – 1 (Environmental Studies)  Click Here
Read Also ...  UTET Exam 2021 Paper – 1 (Environmental Studies) (Official Answer Key)

UTET Exam 2021 Paper – 1 (Primary Level)
 भाषा – II : हिंदी
(Official 
Answer Key)

61. हिन्दी साहित्य शिक्षण का मुख्य घटक है
(A) पद्य शिक्षण
(B) व्याकरण
(C) रूप विज्ञान
(D) संरचनात्मक

62. हिन्दी शिक्षण की प्रभावशीलता मूल्यांकन की प्रत्यक्ष प्रविधियाँ हैं –
(A) छात्रों की निष्पत्तियों
(B) छात्रों की अभिवृत्तियों
(C) शाब्दिक अंतः प्रक्रिया
(D) उपरोक्त सभी

63. काव्य में नाद-सौन्दर्य तत्व नहीं है –
(A) वर्णो या पदों की आवृत्ति
(B) कविता में वर्णित नैतिक गुण
(C) छन्द की गति, यति, मात्रा
(D) भावानुरूप वर्ण विन्यास

64. निबंध शिक्षण का मुख्य उद्देश्य है –
(A) निरीक्षण शक्ति का विकास
(B) कलात्मक लेखन क्षमता का विकास
(C) तर्क शक्ति का विकास
(D) उपरोक्त सभी

65. लेखन-शिक्षण की मुख्य विधि है –
(A) पेस्टॉलॉजी विधि
(B) अनुकरण विधि
(C) उपरोक्त दोनों ही
(D) इनमें से कोई नहीं

66. विद्यालय पत्रिका का मुख्य उद्देश्य है
(A) छात्रों की तार्किक, काल्पनिक और मानसिक शक्तियों का विकास करना।
(B) छात्रों की भाषा और शैली को सुव्यवस्थित करना।
(C) छात्रों में हिन्दी भाषा और साहित्य के प्रति अनुराग उत्पन्न करना।
(D) उपरोक्त सभी

67. “नौकर दूध लाता होगा।” इस वाक्य का प्रकार है
(A) संकेतार्थ
(B) विध्यार्थ
(C) संदेहार्थ
(D) निश्चयार्थ

68. “संतन को कहा सीकरी सों काम” पंक्तियाँ किसकी
(A) कुंभनदास
(B) कबीरदास
(C) रैदास
(D) रज्जब

Read Also ...  UTET Exam 2019 Paper - 2 (Social Studies) in Hindi (Official Answer Key)

Click To Show Answer/Hide

Answer – (A)

निर्देश : निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों (प्रश्न संख्या 69 से 73 तक) के सर्वाधिक उचित उत्तर वाले विकल्प का चयन कीजिए।

राष्ट्रीय भावना के अभ्युदय एवं विकास के लिए भाषा भी एक प्रमुख तत्व है। मानव समुदाय अपनी संवदेनाओं, भावनाओं एवं विचारों की अभिव्यक्ति हेतु भाषा का साधन अपरिहार्यतः अपनाता है। इसके अलावा उसके पास कोई अन्य विकल्प नहीं है। दिव्य-ईश्वरीय आनन्दानुभूति के संबंध में भले ही कबीर ने ‘गूंगे केरी शर्करा’ उक्ति का प्रयोग किया था. पर इससे उनका लक्ष्य शब्द रूपा के महत्व को नकारना नहीं था। प्रत्युक्त उन्होंने भाषा को ‘बहता नीर’ कहकर भाषा की गरिमा प्रतिपादित की थी। विद्वानों की मान्यता है कि भाषा तत्व राष्ट्र के हित के लिए अत्यावश्यक है। जिस प्रकार किसी एक राष्ट्र के भू-भाग की भौगोलिक विविधताएं तथा उसके पर्वत, सागर, सरिताओं आदि की बाधाष्टं उस राष्ट्र के निवासियों के परस्पर मिलने-जुलने में अवरोध सिद्ध हो सकती है, उसी प्रकार भाषागत विभिन्नता से भी उनके पारस्परिक संबंधों में निर्वाधता नहीं रह पाती। आधुनिक विज्ञान युग में यातायात एवं संचार के साधनों की प्रगति से भौगोलिक बाधाएं अब पहले की तरह बाधित नहीं करतीं। इसी प्रकार यदि राष्ट्र की एक संपर्क भाषा का विकास हो जाए तो पारस्परिक संबंधों के गतिरोध काफी सीमा तक समाप्त हो सकते हैं।

69. राष्ट्रीय भावना के अभ्युदय एवं विकास के लिए प्रमुख तत्व है –
(A) भाषा तत्व
(B) साहित्य तत्व
(C) विचार तत्व
(D) इनमें से कोई नहीं

70. ‘गूंगे केरी शर्करा’ से कबीर का अभिप्रेत है कि ब्रह्मानंद की अनुभूति –
(A) अत्यंत मधुर होती है।
(B) अभिव्यक्ति के लिए कसमसाती है।
(C) अनिर्वचनीय होती है।
(D) मौनव्रत से प्राप्त होती है।

Read Also ...  UTET Exam 2019 Paper - 2 (Mathematics and Science) (Official Answer Key)

Click To Show Answer/Hide

Answer – (C)

71. भाषागत वैविष्य के बावजूद राष्ट्रीय भावना के विकास संभव है यदि
(A) संचार साधनों का पर्याप्त विकास किया जाए।
(B) यातायात के साधनों का पर्याप्त विकास किया जाए।
(C) मातृ भाषाओं को विकसित किया जाए।
(D) एक संपर्क भाषा को विकसित किया जाए।

72. भाषा को ‘बहता नीर’ कहने से आशय है
(A) तत्समनिष्ठ भाषा
(B) सरल प्रवाहमयी भाषा
(C) सधुक्कड़ी भाषा
(D) लालित्यपूर्ण भाषा

73. इस अवतरण का सर्वाधिक उपयुक्त शीर्षक है
(A) राष्ट्रीयता और भाषा तत्व
(B) साहित्य एवं कला
(C) भाषा बहता नीर
(D) व्यक्तित्व विकास और भाषा

74. लोहा, सोना, चाँदी कहलाते हैं
(A) व्यक्तिवाचक संज्ञा
(B) जातिवाचक संज्ञा
(C) द्रव्यवाचक संज्ञा
(D) समूहवाचक संज्ञा

75. ‘निर्निमेष’ शब्द का अर्थ है
(A) बिना भयभीत हुए
(B) बिना पलक झपकाए
(C) कुछ भी शेष न रहे
(D) कांति रहित

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!