इस्लामिक सम्मेलन संगठन (Organisation of Islamic Conference)

स्थापना – मई 1971
सदस्य देश – 57 (अफगानिस्तान, अल्बानिया, अल्जीरिया, अज़रबैजान, बहरीन, बांग्लादेश, बेनिन, ब्रूनेई, दार-ए- सलाम, बुर्किना फासो, कैमरून, चाड, कोमोरोस, आईवरी कोस्ट, जिबूती, मिस्र, गैबॉन, गाम्बिया, गिनी, गिनी-बिसाऊ, गुयाना, इंडोनेशिया, ईरान, इराक, जार्डन, कजाखस्तान, कुवैत, किरगिज़स्तान, लेबनान, लीबिया, मलेशिया, मालदीव, माली, मॉरिटानिया, मोरक्को, मोजाम्बिक, नाइजर, नाइजीरिया, ओमान, पाकिस्तान, फिलिस्तीन, कतर, सऊदी अरब, सेनेगल, सियरा लिओन, सोमालिया, सूडान, सूरीनाम, सीरिया, ताजिकिस्तान, टोगो, ट्यूनीशिया, तुर्की, तुर्कमेनिस्तान, युगांडा, संयुक्त अरब अमीरात, उज्बेकिस्तान और यमन।)
पर्यवेक्षक राष्ट्र – इसके पर्यवेक्षक देशों में बोस्निया और हर्जेगोविना, सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक, रूस और थाइलैंड शामिल हैं।
पर्यवेक्षक मुस्लिम संगठन – मोरो नैशनल लिब्रेशन फ्रंट, तुर्किश सिप्रियॉट स्टेट
पर्यवेक्षक अंतरराष्ट्रीय संगठन –  इकनॉमिक कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन, अफ्रीकन यूनियन, लीग ऑफ अरब स्टेट्स, नॉन अलाइंड मूवमेंट और संयुक्त राष्ट्र
आधिकारिक भाषाएं – अरबी, अंग्रेजी और फ्रांसीसी है।
मुख्यालय –  जेद्दा, (सऊदी अरब)

 

इस्लामिक सम्मेलन संगठन (Organisation of Islamic Conference) (O.I.C.)

इस्लामिक सम्मेलन संगठन (O.I.C.) की स्थापना मई 1971 में की गई थी। इस संगठन की स्थापना के पीछे रबात (मोरक्को) में सितंबर 1969 में संपन्न मुसलिम राष्ट्राध्यक्षों के शिखर सम्मेलन, मार्च 1970 में जद्दाह (सऊदी अरब) में संपन्न मुस्लिम विदेश मंत्रियों के सम्मेलन तथा सन् 1970 में कराँची (पाकिस्तान) में हुए मुस्लिम विदेश मंत्रियों के सम्मेलन का प्रमुख योगदान है। वर्तमान में इस संगठन में 57 सदस्य हैं। संगठन का सदस्य मुस्लिम बहुल जनसंख्या (50 प्रतिशत से अधिक) वाला देश ही बन सकता है।

Read Also ...  संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nation Organization)

उद्देश्य – 

इसका सबसे बड़ा उद्देश्य सदस्य राष्ट्रों के बीच आपसी एकता के बंधन को मजबूत करना और उनके हितों की रक्षा करना है। यह संगठन सदस्य राष्ट्रों की अखंडता, उनकी स्वायत्ता और स्वतंत्रता को सुनिश्चित रखने के लिए काम करकता है। इस्लामी राष्ट्रों के बीच आर्थिक व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सामान्य इस्लामी बाजार की स्थापना इसके अहम उद्देश्यों में से एक है।  

इस्लामिक सम्मेलन संगठन के अहम अंग –

  • इस्लामिक समिट (Islamic Summit)
  • काउंसिल ऑफ फॉरेन मिनिस्टर्स (सीएफएम) (Council of Foreign Ministers-CFM)।
  • महासचिवालय
  • अलकुद्स कमिटी
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कमिटी
  • आर्थिक एवं व्यापार कमिटी
  • सूचना एवं संस्कृति कमिटी
  • इस्लामिक विकास बैंक
  • इस्लामी शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन

भारत की स्थिति –

सितंबर 1969 में मोरक्को की राजधानी रबात में इस्लामिक समिट कॉन्फ्रेंस का आयोजन हुआ था। उसमें भारत को आधिकारिक प्रतिनिधि के तौर पर आमंत्रित किया गया। लेकिन पाकिस्तान ने भारत को न्योते का विरोध किया था जिस वजह से भारत को दिया गया निमंत्रण रद्द कर दिया गया।

ओआईसी की सदस्यता मुस्लिम बहुल देशों के लिए आरक्षित है, लेकिन रूस, थाईलैंड और कुछ अन्य छोटे देशों को उसकी तरफ से ऑब्जर्वर का दर्जा दिया गया है। पिछले साल मई में ढाका में हुए विदेश मंत्री परिषद के 45वें सम्मेलन में बांग्लादेश ने मेजबान के तौर पर भारत को इस संगठन की सदस्यता देने का प्रस्ताव रखा था।

वर्तमान में 46वाँ सत्र अबु धाबी में आयोजित किया गया। इस संगठन की स्थापना के बाद पिछले 50 वर्षों में यह पहली बार था, जब भारत को OIC की बैठक के उद्घाटन सत्र में बतौर गेस्ट ऑफ ऑनर आमंत्रित किया गया। मेज़बान देश संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने पाकिस्तान की कड़ी आपत्ति और बहिष्कार करने की धमकी के बावजूद OIC के विदेश मंत्रियों की बैठक में भारत को आमंत्रित करने के अपने निर्णय का बचाव किया।

Read Also ...  शंघाई सहयोग संगठन (Shanghai Cooperation Organisation)

पहली बार परिषद की पूर्ण बैठक में ‘गेस्ट ऑफ ऑनर’ होने का निमंत्रण, विशेषकर पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान के साथ बढ़े तनाव के मद्द्देनज़र अपना एक अलग महत्त्व रखता है। यह इस बात का परिचायक है कि इस्लामिक देशों ने भी भारत के महत्त्व को पहचाना और स्वीकार किया है। इसे भारत के लिये एक बड़ी राजनयिक उपलब्धि माना जा सकता है।

महासचिव –

  • तान्कू अब्दुल रहमान (मलेशिया) – 1970 – 1974
  • हस्सान अल-ताहामी (1974 – 75)
  • अमादु करीम गाए (1975 – 79)
  • हबीबी चट्टी (1979 – 84)
  • सैयद शरीफद्दीन पीरजादा (पाकिस्तान) – 1984 – 88
  • हामीद अलगाबिद (नाइजर) – 1988 – 96
  • अजद्दीन लाराकी (मोरक्को) – 1996 – 2000
  • अब्देलउहैद बलकेजीज (मोरक्को) – 2000 – 04
  • इकमेलद्दीन इशानुगलू (तुर्की) – 2004 – 14
  • इयाद इब्न अमीन मदनी (सउदी अरब) – 2014 – 16
  • युस्सेफ बिन अल-ओट्टामीन (सउदी अरब) – 2016 – वर्तमान

इसलामिक शिखर सम्मेलन (Islamic Summit Conference)

  • 1st शिखर सम्मेलन – 22–25 सितम्बर 1969 – मोरक्को (रबाट)
  • 2nd शिखर सम्मेलन – 22–24 फरवरी 1974 – पाकिस्तान (लाहौर)
  • 3rd  शिखर सम्मेलन – 25–29 जनवरी 1981 – सऊदी अरब (मक्का और तैफ)
  • 4th शिखर सम्मेलन – 16–19 जनवरी 1984 – मोरक्को (कैसाब्लांका)
  • 5th शिखर सम्मेलन – 26–29 जनवरी 1987 – कुवैत(कुवैत सिटी)
  • 6th शिखर सम्मेलन – 9–11 दिसम्बर 1991 – सेनेगल (डकार)
  • 7th शिखर सम्मेलन – 13–15 दिसम्बर 1994 – मोरक्को (कैसाब्लांका)
  • 8th शिखर सम्मेलन – 9–11 दिसम्बर 1997 – ईरान (तेहरान)
  • 9th शिखर सम्मेलन – 12–13 नवम्बर 2000 – कतर (दोहा)
  • 10th शिखर सम्मेलन – 16–17 अक्टूबर 2003 – मलेशिया
  • 11th शिखर सम्मेलन – 13–14 मार्च 2008 – सेनेगल (डकार)
  • 12th शिखर सम्मेलन – 6–7 फरवरी 2013 – मिस्र (काहिरा)
  • 13th शिखर सम्मेलन – 14–15 अप्रैल 2016 – तुर्की (इस्तांबुल)
  • 14th शिखर सम्मेलन – नवम्बर 2019 – गाम्बिया
Read Also ...  G–20 (जी-20) [Group - 20 Countries]

 

Read Also :

Read more related Post

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!