स्थानीय पवनें (Local wind)

स्थाई पवन के मार्ग में धरातल के स्थानीय तापांतर के कारण अनेक प्रकार के स्थानीय पवन उत्पन्न होते हैं। इनके अलग-अलग नाम हैं।

स्थानीय गर्म हवाएँ (Local Hot Winds)

1. लू (L00) : उत्तरी भारत एवं पाकिस्तान के मैदानों में मई-जून में प्रवाहित होने वाली यह काफी गर्म एवं शुष्क वायु है।

2. फॉन (Fohn) : यह हवा दक्षिणी आल्पस के सहारे ऊपर उठती है एवं वर्षा के पश्चात् आल्पस पर्वत के उत्तरी ढाल पर नीचे उतरती है। उतरते समय दबाव के कारण यह हवा गर्म हो जाती है। यह वायु फ्रांस, इटली आदि देशों में प्रवाहित होती है। इसका तापमान 15°C से 20°C तक होता है। इसके प्रभाव से बर्फ पिघलने लगता है, पशुओं को चलने की सुविधा मिलती है एवं अंगूर पकने लगते हैं।

3. चिनूक या शिनूक (Chinook): अमेरिका एवं कनाडा में यह पवन रॉकी पर्वत श्रेणी के पूर्वी ढाल पर नीचे उतरती है। चिनूक शब्द का अर्थ हिमभक्षी होता है। यह पवन रॉकी के पूर्वी ढालों को हिम के प्रभाव से मुक्त रखती है।

4. हरमट्टन (Harmattan) : यह पश्चिमी अफ्रीका के सहारा से उ०पू० से द०-पू० दिशा में चलने वाली गर्म एवं अति शुष्क वायु है। यह तेज रफ्तार वाली धूल से भरी आँधी है। इस वायु को डाक्टर वायु भी कहा जाता है, क्योंकि जब यह वायु सहारा से गोबी तट की ओर प्रवाहित होती है तो वहाँ के आर्द्र मौसम से राहत मिलती है। परंतु सहारा मरूस्थल में यह ऊँट के काफिले के लिए कष्टदायी होता है।

5. बर्ग (Berg) : दक्षिण अफ्रीका में यह फोन एवं चिनूक के समान एक गर्म एवं शुष्क वायु है जो आंतरिक पठारी भाग से तटवर्ती क्षेत्र की ओर बहती है।

Read Also ...  एशिया महाद्वीप की मिट्टियाँ

6. सिमूम (Simoom): अरब एवं सहारा के मरूस्थलों में चलने वाली यह एक शुष्कउष्ण एवं दमघोंटू हवा है। ये हवाएँ बालूओं से भरी होती हैं, जिसके कारण दृश्यता काफी कम हो जाती है।

7. काराबुरान (Kara-buran) : यह मध्य एशिया के ताश्मिन बेसिन में चलने वाली गर्म शुष्क वायु है। यह वायु धूल से भरी हुई होती है। मध्य एशिया के पाओस के मैदान का निर्माण इसी वायु से होता है।

8. सिराक्को (Sirocco) : सहारा मरूस्थल से इटली में प्रवाहित होने वाली एक गर्म वायु है जो बालू के कणों से युक्त होती है। मिस्र में इसे खमसिन, लीबिया में गिबली तथा ट्यूनीशिया में चिली के नाम से जाना जाता है। मरूस्थल से चलने के कारण इटली में जो वर्षा होती है वह लाल रंग की होती है इसलिए इसे खूनी वर्षा कहते हैं। स्पेन में इसे लेवेच के नाम से जाना जाता है।

9. ब्लैक रोलर (Black Roller) उत्तरी अमेरिका के विशाल मैदानों में चलने वाली धूल भरी गर्म वायु को ब्लैक रोलर कहा जाता है।

10. शामल (Shamal) : अरब, इरान एवं इराक के मरूस्थलीय क्षेत्र की यह एक गर्म हवा है।

11. ब्रिक फील्डर (Brick Fielder) : आस्ट्रेलिया के मरूस्थलीय क्षेत्रों में चलने वाली एक गर्म तीव्र एवं शुल्क वायु है।

12. सान्ना आना (Santa Ana) : कैलिफोर्निया में सान्ना आना घाटी से तटवर्ती कैलिफनिया की ओर चलने वाली गर्म एवं शुष्क वायु है। यह कैलिफनिया में फलों की बगीचों को नुकसान पहुँचाते हैं।

13. योमा (Yoma) : जापान में चलने वाली गर्म वायु।

14. जोन्डा : अर्जेन्टीना ।

15. कोयम बैंग : इण्डोनेशिया, तम्बाकू के फसलों के लिए हानिकारक।

Read Also ...  भारत के तटीय मैदान और भारतीय द्वीप

16. नार्वेस्टर : न्यूजीलैण्ड।

17. अयाला : फ्रांस के सेंट्रल मैसिफ में।

18. बाग्या : फीलीपींस में चलने वाला उष्ण कटिबंधीय चक्रवात।

ठण्डी स्थनीय पवनें (Cold Local Winds)

1. मिस्ट्रल : फ्रांस में आल्पस से भू-मध्य सागर की ओर।

2. बोरा : यूरोप के पर्वतीय क्षेत्र से एड्रियाटिक सागर की ओर।

3. ब्लिजार्ड : साइबेरिया एवं उत्तरी अमेरिका के उत्तरी भाग में।

4. बुरान : रूस एवं मध्यवर्ती एशिया में। हिमयुक्त होने पर पूर्गा के नाम से जाना जाता है।

5. नार्दर : उत्तरी अमेरिका उत्तरी भाग में।

6. पैम्पेरो : अर्जेन्टीना एवं उरूग्वे के पम्पास क्षेत्रों में।

7. बाइज : दक्षिण फ्रांस में चलने वाली।

8. केप डाक्टर : दक्षिण अफ्रीका के पठारी भाग से दक्षिण तट की और बहने वाली इसे टेबल क्लॉथर भी कहा जाता है।

9. ट्रामोण्टाना : भूमध्यसागरीय क्षेत्र कोर्सिका में प्रवाहित होने वाली।

10. दक्षिण बस्तर : ध्रुवीय क्षेत्रों से आस्ट्रेलिया के दक्षिणी भागों में प्रवाहित होने वाली।

 

Read More :

Read More Geography Notes

 

 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!