हाथरस जनपद (Hathras District)

हाथरस जनपद का परिचय (Introduction of Hathras District)

हाथरस की स्थिति (Location of Hathras)

  • मुख्यालय – हाथरस
  • पुराना नाम व उपनाम – महामाया नगर
  • मंडल अलीगढ़ 
  • क्षेत्रफल – 1,800वर्ग किमी 
  • सीमा रेखा
    • पूर्व में – एटा 
    • पश्चिम में – मथुरा
    • उत्तर में – अलीगढ़
    • दक्षिण में – आगरा 
  • राष्ट्रीय राजमार्ग –  NH-91, NH-93
  • परियोजनाएँ – मध्य गंगा नहर 

हाथरस की प्रशासनिक परिचय (Administrative Introduction of Hathras )

  • विधानसभा क्षेत्र – 3 (हाथरस (अनिसूचित जाति), सादाबाद, सिकन्‍दाराऊ)
  • लोकसभा सीट – 1 (हाथरस (अनिसूचित जाति)
  • तहसील – 4 (हाथरस, सादाबाद, सासनी, सिकंदराराऊ)
  • विकासखंड (ब्लाक)  – 7 (हाथरस, मुरसान, सासनी, सिकन्दराऊ, हसायन, सादाबाद, सहपउ)
  • कुल ग्राम – 683
  • कुल ग्राम पंचायत – 474
  • नगर पालिका परिषद – 2 (नगर पालिका सिकंदरा राव, नगर पालिका हाथरस)
  • नगर पंचायत – 07 

हाथरस की जनसंख्या (Population of Hathras )

  • जनसंख्या –15,64,708
    • पुरुष जनसंख्या – 8,36,127
    • महिला जनसंख्या –  7,28,581
  • शहरी जनसंख्या – 332,693(21.26 %)
  • ग्रामीण जनसंख्या – 1,232,015(78.74 %)
  • साक्षरता दर –71.59%
    • पुरुष साक्षरता –82.38%
    • महिला साक्षरता – 59.23%
  • जनसंख्या घनत्व –850
  • लिंगानुपात –871
  • जनसंख्या वृद्धि दर – 17.12%
  • हिन्दू जनसंख्या – 1,397,225(89.30 %)
  • मुस्लिम जनसंख्या – 159,448(10.19 %)
  • इस्लाम जनसंख्या – 1,350(0.09 %)

Population Source – census2011.co.in

हाथरस के संस्थान व प्रमुख स्थान (Institution & Prime Location of Hathras)

  • धार्मिकस्थल  – तीर्थधाम मंगलायतन
  • उद्योग – पीतल और बर्तन कलई उद्योग, ताला उद्योग, चाकू, कैंची व छुरा उद्योग, सरौंता उद्योग, लकड़ी का फर्नीचर उद्योग, टीन कनस्तर उद्योग, हींग उद्योग, रेडीमेट्स गारमेंट्स

Notes –

  • हाथरस उत्तर भारत के बृज परिक्षेत्र के अंतर्गत आता है एवं अपने औद्योगिक, साहित्य एवं सांस्कृतिक कलाओं के लिए प्रख्यात है।
  • पुराणों एवं ऐतिहासिक कथाओं के अनुसार यह जिला महाभारत के समय से स्थापित है।
  • ब्रिटिश शासनकाल के दौरान हाथरस औद्योगिक केंद्र माना जाता था। 
  • वर्तमान में हाथरस को होली के रंगों एवं गुलाल स्किन पाउडर, रेडीमेड कपड़े, रसायनों, कालीन बनाने, कृत्रिम मूंगा-मोती, पीतल, आर्टवेयर एवं हार्डवेयर, खाद्य तेल, मेटल हस्तशिल्प एवं पेय उत्पाद के लिए जाना जाता है।
Read Also ...  हापुड़ जनपद (Hapura District)

 

Read Also :

Related Post ….

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!