दक्षिण भारत के चोल शासक (Chola Ruler of South India)

चोल राजवंश (Chola Dynasty)

विजयलया (Vijayalaya)

  • पांड्यों के सहयोगी गुत्तरयार से 850 ई०पू० के लगभग विजयलया द्वारा तंजौर छीनना तथा उसके द्वारा निशुंभसुदीनी (दुर्गा) के मंदिर की स्थापना-चोलों (Chola) के उदय से पहले चरण थे जो उस समय पल्लवों के सामंत थे।

आदित्य (Aditya)

  • आदित्य ने अपने पल्लव अधिराज को युद्ध में पराजित कर उसकी हत्या कर दी तथा पूरे तोंडाइमंडलम पर अधिकार कर लिया। 
  • आदित्य ने उसके बाद कोंगु राज्य पर भी अधिकार किया। 
  • आदित्य  ने कावेरी नदी के दोनों तटों पर शिव के मंदिरों का निर्माण करवाया।

परान्तक I (Parantak I)

  • परान्तक I ने शासन के प्रारंभिक दिनों में पांड्य राज्य पर आक्रमण किया तथा ‘मदुरै कोंडा’ (मदुरै को जीतने वाला) की उपाधि धारण की। 
  • 916 में राष्ट्रकूट राजा कृष्ण II ने चोल राज्य पर आक्रमण किया, उन्हें वल्लाल में बुरी तरह पराजित होना पड़ा। 
  • राष्ट्रकूट राजा कृष्ण III ने परांतक को तावकोलम के युद्ध में 949 में पराजित कर उत्तरी चोल राज्य के एक बड़े भाग पर अधिकार कर लिया।
  • परांतक I के बाद अगले 30 वर्षों तक काफी अव्यवस्था रही। 
  • उनके उत्तराधिकारी गणरादित्य, अरिंजय, परांतक II तथा उत्तम चोल थे। 
  • इनमें से मात्र परांतक II का कुछ महत्त्व है क्योंकि उन्होंने राष्ट्रकूटों से हारे गए क्षेत्र में से कुछ वापस जीता।

राजाराज I (Rajaraj I)

  • ये मूलत: अरुमोलिवर्मण के नाम से जाने जाते थे तथा परांतक II के पुत्र थे। 
  • चोलों का वास्तविक महान युग उनके समय से प्रारंभ हुआ। 
  • उन्होंने पांड्य, केरल तथा सिलोन राज्य की एक सम्मिलित सेना को पराजित कर इनके राज्यों पर अधिकार कर लिया। 
  • महेंद्र V को पराजित कर सिलोन की राजधानी अनुराधापुरा को नष्ट कर उत्तरी सिलोन में चोल प्रान्त की स्थापना की गई जिसकी राजधानी पोलोन्नारुवा थी। 
  • उन्होंने तंजौर के भव्य शिव अथवा वृहदेश्वर (राजराजेश्वर) मंदिर का निर्माण करवाया था। 
Read Also ...  बंगाल विभाजन (1905 - 1911)

राजेन्द्र I (Rajendra I)

  • उन्होंने चोल राज्य को विस्तारित कर उस समय का सबसे सम्माननीय राज्य बना दिया। 
  • उन्होंने महेन्द्र V को पराजित कर उसे बंदी बना लिया तथा सिलोन की विजय को पूरा किया। 
  • उन्होंने पांड्य तथा केरल राज्यों को पराजित कर अपने एक बेटे को इस क्षेत्र का वाइसराय बना दिया तथा मदुरै को इसकी राजधानी। 
  • उन्होंने कलिंग के पूर्वी गंगा राजा मधुकुमारनव को भी पराजित किया जिसने पश्चिमी चालुक्यों का साथ दिया था।
  • राजेन्द्र I ने गंगा घाटी पर एक सफल सैनिक अभियान का नेतृत्व किया तथा इस अवसर पर एक नई राजधानी तथा मंदिर का निर्माण करवाया जिसका नाम था गंगाई कोंडाचोलापुरम। 

राजाधिराज (Rajadiraj)

  • उन्होंने पांड्य, केरल तथा सिलोन में विद्रोहों का दबाया था। 
  • उन्होंने वेंगी में चोल राज्य को पुनः स्थापित करन के लिए भी अभियान छेडा। 
  • येतागीरी (याडगीर) में उन्होंने शेर चिह्न वाला एक स्तम्भ बनवाया। 
  • कल्याणी पर अधिकार कर राजाधिराज ने वहां विराभिषेक (विजय उत्सव) या तथा ‘विजयराजेन्द्र’ की उपाधि धारण की। 
  • अपने शासन के अन्तिम दिनों में उन्होंने पश्चिमी चालुक्य शासन सोमेश्वर के खिलाफ अभियान छेड़ा परन्तु इसमें उनकी मृत्यु हो गई। 

राजेन्द्र II (Rajendra II)

  • विजय के बाद उसने एक जय स्तम्भ कोल्लापुरा में लगवाया तथा अपनी राजधानी वापस लौट गया। 
  • बाद में सोमेश्वर को कोप्पम की पराजय को बदलने का प्रयास किया किन्तु उसमें वह असफल रहा। 
  • इसके कुछ ही दिनों के बाद राजेन्द्र की मृत्यु हो गई।

वीर राजेन्द्र (Veer Rajendra)

  • सोमेश्वर ने वीर राजेन्द्र को चुनौती दी जिसके परिणामत: कुदाल-संगमम का युद्ध हुआ परन्तु चालुक्य राजा अपनी बीमारी के कारण इस युद्ध में नहीं आए तथा कुछ समय बाद अपने को तुंगभद्रा में डुबोकर परमयोग प्राप्त किया। 
  • वीर राजेन्द्र ने सहायता तथा संरक्षण के लिए अपनी शरण में आए राजकुमार के पक्ष में कदारम (श्री विजय) एक नौसैनिक अभियान भेजा (1068)।
Read Also ...  कल्याणी के चालुक्य शासक (Chalukya Ruler of Kalyani)

कुलुतुंगा I (Kulutunla I)

  • वेंगी के राजराजा नरेन्द्र तथा चोल राजकुमारी अम्मंगादेवी के इस पुत्र का मूल नाम राजेन्द्र II था। 
  • इसने वीर राजेन्द्र की मृत्यु का फायदा उठाकर चोल गद्दी पर अधिकार कर लिया। 
  • इस तरह उसने वेंगी तथा चोल राज्यों को मिला दिया। 
  • कुलुतुगा ने पूरे राज्य पर पुनः एक मजबूत सैन्य अभियान छेड़ दिया। 
  • 1115 तक सिलोन को छोड़कर चोल राज्य का स्वरूप मारवतित रहा; परन्तु अपने शासन के अंतिम दिनों में यह वेंगी 9 मसूर चालुक्य राजा विक्रमादित्य को हार गए। 
  • कुलुतुगा I ने 72 व्यापारियों का एक दल चीन भेजा तथा श्री विजया से भी उनके अच्छे संबंध थे जहां से उसके लिए भी एक दूत भेजा गया था। 
  • पुरालेख तथा लोक अवधारण उन्हें ‘शुंगम तविर्त’ की उपाधि देता है। 

बाद के शासक 

  • कुलुतुंगा I के बाद विक्रम चोल, कुलुतुंगा II, राजराजा II, राजाधिराज II, कुलुतुंगा III आए। 
  • राजाधिराज II के समय से सामंतों की बढ़ती स्वतंत्रता राजाधिराज II के समय पूरी तरह उभरने लगी। 
  • कुलुतुंगा III ने चोल राज्य के विघटन को कुछ समय तक रोके रखा। 
  • कुलुतुंगा III के बाद चोल स्थानीय प्रमुखों के रूप में बने रहे।

 

Read Also :

Read Related Posts

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!