Daily MCQs - Page 3

Daily MCQs – इतिहास एवं कला-संस्कृति – 19 June 2024 (Wed)

Daily MCQs : इतिहास एवं कला-संस्कृति (History and Art & Culture)
19 June, 2024 (Wednesday)

1. भारत सरकार को इंग्लैंड में लोगों को भारी भुगतान करना पड़ता था, जिसे ‘होम चार्ज’ कहा जाता था। उनमें शामिल हैं:
1. इंग्लैंड में सार्वजनिक ऋण पर ब्याज बढ़ाया गया
2. रेलवे और सिंचाई कार्यों के कारण वार्षिकियां
3. उन सिविल विभागों के संबंध में भुगतान जहां अंग्रेज कार्यरत थे
4. इंग्लैंड में भारत के लिए काम करने वाले सेवानिवृत्त अधिकारियों की पेंशन सहित भारत कार्यालय व्यय
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?
(A) केवल एक

(b) केवल दो
(c) केवल तीन
(d) सभी चार

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – भारत और इंग्लैंड के बीच स्थापित राजनीतिक, प्रशासनिक और वाणिज्यिक संबंधों के कारण भारत सरकार को इंग्लैंड में लोगों को भारी भुगतान करना पड़ता था। इन प्रतिबद्धताओं को ‘होम चार्ज’ कहा जाता था। उनमें शामिल हैं:

  • इंग्लैंड में सार्वजनिक ऋण पर ब्याज तुलनात्मक रूप से उच्च दरों पर उठाया गया;
  • रेलवे और सिंचाई कार्यों के कारण वार्षिकियां;
  • सिविल विभागों के संबंध में भुगतान जहां अंग्रेज कार्यरत थे;
  • भारत कार्यालय व्यय जिसमें उन सेवानिवृत्त अधिकारियों की पेंशन शामिल है जिन्होंने भारत में काम किया था या जिन्होंने इंग्लैंड में भारत के लिए काम किया था और वहां से सेवानिवृत्त हुए, सेना और नौसेना कर्मियों को पेंशन और उनके फर्लो भत्ते।

अतः सभी कथन सही हैं।

2. निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिए:

संगठन संस्थापक
1. सोशल सर्विस लीग गोपालकृष्ण गोखले
2. सर्वेंट्स ऑफ इंडिया सोसाइटी एन एम जोशी
3. इंडियन नेशनल सोशल कॉन्फ्रेंस एम जी रानाडे

उपर्युक्त में से कितने युग्म सही सुमेलित हैं?
(A) केवल एक युग्म

(B) केवल दो युग्म
(C) सभी तीन युग्म
(D) कोई भी नहीं

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या –

  • सोशल सर्विस लीग – 1911 बॉम्बे: एन एम जोशी: इसका उद्देश्य जनता के लिए जीवन और कार्य की बेहतर और उचित स्थितियाँ सुरक्षित करना था।
  • सर्वेंट्स ऑफ इंडिया सोसाइटी – 1905 बॉम्बे: गोपालकृष्ण गोखले: इसका उद्देश्य भारतीयों को अपनी मातृभूमि की सेवा के लिए विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षित करना था।
  • भारतीय राष्ट्रीय सामाजिक सम्मेलन – 1887 बॉम्बे: एम जी रानाडे: इसका उद्देश्य भारतीय समाज में व्याप्त सामाजिक बुराइयों को दूर करना और महिलाओं के कल्याण को बढ़ावा देना था।

अतः विकल्प (A) सही है

3. वेदांत विचारधारा के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. यह विद्यालय उपनिषदों में वर्णित जीवन दर्शन का समर्थन करता है।
2. वेदांत सिद्धांत पुनर्जन्म के सिद्धांत को नकारता है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या –

  • वेदांत दो शब्दों से बना है- ‘वेद’ और ‘अंत’, यानी वेदों का अंत। यह विद्यालय उपनिषदों में वर्णित जीवन दर्शन का समर्थन करता है। यह तर्क आत्मा और ब्रह्म को एक ही मानता है और यदि कोई व्यक्ति आत्मज्ञान प्राप्त कर लेता है, तो वह स्वतः ही ब्रह्म को समझ लेगा और मोक्ष प्राप्त कर लेगा। यह तर्क ब्रह्म और आत्मा को अविनाशी और शाश्वत बना देगा। अतः कथन 1 सही है
  • वेदांत सिद्धांत भी कर्म सिद्धांत को विश्वसनीयता प्रदान करता है। यह सिद्धांत पुनर्जन्म या पुनर्जन्म में विश्वास करता है। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि एक व्यक्ति को अपने पिछले जन्म के कर्मों का खामियाजा अगले जन्म में भुगतना होगा। अतः कथन 2 सही नहीं है

4. महावीर की शिक्षाओं के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. महावीर मानते थे कि सभी वस्तुओं, सजीव और निर्जीव दोनों में आत्मा और चेतना की विभिन्न डिग्री होती हैं।

2. महावीर ने वेदों के अधिकार को अस्वीकार कर दिया और वैदिक अनुष्ठानों पर आपत्ति जताई।
3. वे कृषि कार्य को सबसे शुद्ध एवं विश्वसनीय व्यवसाय मानते थे।
उपर्युक्त में से कौन सा कथन सही है?
(A) केवल 1 और 2

(B) केवल 2 और 3
(C) केवल 1 और 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या –

  • महावीर मानते थे कि सजीव और निर्जीव दोनों ही सभी वस्तुओं में आत्मा और चेतना के विभिन्न स्तर होते हैं। उनमें जीवन है और जब वे घायल होते हैं तो दर्द महसूस करते हैं। अतः कथन 1 सही है
  • महावीर ने वेदों के अधिकार को अस्वीकार कर दिया और वैदिक अनुष्ठानों पर आपत्ति जताई। उन्होंने अत्यंत पवित्र एवं नैतिक जीवन संहिता की वकालत की। अतः कथन 2 सही है
  • यहाँ तक कि कृषि कार्य को भी पाप माना जाता था क्योंकि इससे पृथ्वी, कीड़ों और जानवरों को नुकसान पहुँचता है। अतः कथन 3 सही नहीं है

5. मुगल भारत में मलिकाना किससे संबंधित कर भाग था?
(A) सेवा कर

(B) सैन्य अभियान
(C) सीमा शुल्क
(D) भू-राजस्व

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – मुगल साम्राज्य में, जमींदारों को भू-राजस्व एकत्र करने का वंशानुगत अधिकार प्राप्त था, जो राजस्व के 25 प्रतिशत तक हो सकता था। वे आम तौर पर व्यक्तिगत किसानों से परंपरा द्वारा या स्वयं द्वारा निर्धारित दरों पर संग्रह करते थे और राज्य को एक निश्चित कर का भुगतान करते थे। उनके संग्रह और राज्य को भुगतान की गई राशि के बीच का अंतर उनकी व्यक्तिगत आय थी। यदि राज्य की मांग उस अधिकतम सीमा तक पहुंच जाती थी जिसे किसान चुका सकता था, तो राजस्व की कुल राशि से 10 प्रतिशत की कटौती की जाती थी और जमींदारों को मलिकाना के रूप में भुगतान किया जाता था। अतः विकल्प (D) सही है

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – भारत एवं विश्व का भूगोल – 18 June 2024 (Tue)

Daily MCQs : भारत एवं विश्व का भूगोल (India and World Geography)
18 June, 2024 (Tuesday)

1. प्लेट टेक्टोनिक्स के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. प्लेट टेक्टोनिक्स सिद्धांत महाद्वीपीय बहाव सिद्धांत के विपरीत है।

2. यह सिद्धांत है कि पृथ्वी का बाहरी आवरण कई प्लेटों में विभाजित है जो मेंटल के ऊपर सरकती हैं।
3. प्लेट टेक्टोनिक्स के पीछे प्रेरक शक्ति मेंटल में संवहन है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?
(A) केवल 1 और 2
(B) केवल 1 और 3

(C) केवल 2 और 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – प्लेट टेक्टोनिक्स महाद्वीपीय बहाव का आधुनिक संस्करण है, यह सिद्धांत पहली बार 1912 में वैज्ञानिक अल्फ्रेड वेगेनर द्वारा प्रस्तावित किया गया था। वेगेनर के पास इस बात का कोई स्पष्टीकरण नहीं था कि महाद्वीप ग्रह के चारों ओर कैसे घूम सकते हैं, लेकिन शोधकर्ता अब ऐसा करते हैं। इस प्रकार प्लेट टेक्टोनिक्स को भूविज्ञान का एकीकृत सिद्धांत कहा जाता है। प्लेट टेक्टोनिक्स के पीछे प्रेरक शक्ति मेंटल में संवहन है। पृथ्वी के केंद्र के पास गर्म पदार्थ ऊपर उठता है, और ठंडा मेंटल चट्टान डूब जाता है। अतः कथन 1 सही नहीं है

2. पृथ्वी के भीतर से निकलने वाली ऊर्जा अंतर्जात भू-आकृतिक प्रक्रियाओं के पीछे मुख्य शक्ति है। यह ऊर्जा अधिकतर उत्पन्न होती है:
1. पृथ्वी के अंदर रेडियोधर्मिता

2. ज्वारीय घर्षण
3. पृथ्वी की उत्पत्ति से प्राप्त मौलिक ऊष्मा
नीचे दिए गए कूट का उपयोग करके सही उत्तर चुनिए:
(A) केवल 1 और 2
(B) केवल 1 और 3

(C) केवल 2 और 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – पृथ्वी के भीतर से निकलने वाली ऊर्जा अंतर्जात भू-आकृतिक प्रक्रियाओं के पीछे मुख्य शक्ति है। यह ऊर्जा अधिकतर रेडियोधर्मिता, घूर्णी और ज्वारीय घर्षण और पृथ्वी की उत्पत्ति से प्राप्त मौलिक गर्मी से उत्पन्न होती है। अतः सभी सही हैं

3. पृथ्वी की सतह के निकट की हवा भारी है क्योंकि:
(A) निचले वायुमंडल में उच्च वायुदाब
(B) ऊपरी वायुमंडल में जेट वायु परिसंचरण
(C) हवा पर कार्य करने वाली गुरुत्वाकर्षण शक्तियाँ
(D) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – वायुमंडलीय दबाव वायुमंडल के भार के कारण स्वयं पर और उसके नीचे की सतह पर दबाव पड़ने के कारण होता है। किसी ग्रह की सतह से ऊंचाई के साथ वायुमंडलीय दबाव कम हो जाता है क्योंकि संदर्भ बिंदु की ऊंचाई बढ़ने पर संदर्भ बिंदु के ऊपर वायुमंडल में कुल द्रव्यमान कम हो जाता है। यह पृथ्वी के करीब हवा के भारीपन से समझाया गया है। समुद्र तल पर हवा सबसे भारी होती है क्योंकि गुरुत्वाकर्षण के कारण हवा के अणु एक साथ दब जाते हैं। अतः विकल्प (C) सही है

4. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. ओस बनने के लिए आदर्श परिस्थितियाँ साफ़ आसमान, शांत हवा, उच्च सापेक्ष आर्द्रता और ठंडी और लंबी रातें हैं।
2. पाले के निर्माण के लिए ओसांक बिंदु हिमांक बिंदु पर या उससे ऊपर होना चाहिए।
3. ओस के निर्माण के लिए ओसांक बिंदु हिमांक बिंदु से नीचे होना चाहिए।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) केवल 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या – जब नमी ठोस वस्तुओं की ठंडी सतहों पर पानी की बूंदों के रूप में जमा हो जाती है, तो इसे ओस के रूप में जाना जाता है। इसके निर्माण के लिए आदर्श परिस्थितियाँ साफ़ आकाश, शांत हवा, उच्च सापेक्ष आर्द्रता और ठंडी और लंबी रातें हैं। ओस के निर्माण के लिए यह आवश्यक है कि ओस बिंदु हिमांक बिंदु से ऊपर हो। ठंडी सतहों पर पाला तब बनता है जब संघनन हिमांक बिंदु से नीचे होता है, अर्थात ओस बिंदु हिमांक बिंदु पर या उससे नीचे होता है। अतिरिक्त नमी पानी की बूंदों के बजाय सूक्ष्म बर्फ के क्रिस्टल के रूप में जमा हो जाती है। अतः केवल कथन 1 सही है

5. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. पिछले कुछ वर्षों में अरब सागर में मानसून से पहले और बाद में चक्रवातों की संख्या में वृद्धि हुई है और इसका कारण जलवायु परिवर्तन है।
2 बंगाल की खाड़ी और अरब सागर दुनिया के आधे चक्रवात उत्पन्न करते हैं।
उपरोक्त में से कौन सा कथन गलत है/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या – आईपीसीसी की रिपोर्ट से पता चलता है कि मानसून से पहले और बाद में अरब सागर में चक्रवातों की संख्या पिछले कुछ वर्षों में बढ़ी है और इसका कारण जलवायु परिवर्तन है। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर दुनिया के केवल 7% चक्रवात उत्पन्न करते हैं। हालाँकि, उनका प्रभाव बहुत बड़ा है क्योंकि कुछ मेगा शहरों सहित दुनिया के कुछ सबसे घनी आबादी वाले क्षेत्र अतिसंवेदनशील हैं। अतः कथन 2 सही नहीं है

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Exam Daily MCQs Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

 

Daily MCQs – पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी – 15 June 2024 (Sat)

Daily MCQs : पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी (Environment and Ecology)
15 June, 2024 (Saturday)

1. मेनम वन्यजीव अभयारण्य, मेनम-तेंदोंग पर्वतमाला पर स्थित और ऐतिहासिक बौद्ध मठ मेनम गोम्पा का घर, भारत के निम्नलिखित में से किस राज्य/केंद्र शासित प्रदेश में स्थित है?
(A) लद्दाख
(B) जम्मू और कश्मीर
(C) सिक्किम
(D) असम

Show Answer/Hide

उत्तर – (C) 

व्याख्या – “मेनम वन्यजीव अभयारण्य” सिक्किम में स्थित है। मेनम वन्यजीव अभयारण्य मेनम-तेंदोंग पर्वतमाला पर स्थित है जो सिक्किम को अनुदैर्ध्य रूप से उत्तर-दक्षिण में विभाजित करता है और पूर्व में तिस्ता नदी और पश्चिम में रंगित नदी द्वारा प्रवाहित होता है। पर्वतमाला के शीर्ष पर एक ऐतिहासिक बौद्ध मठ, मेनम गोम्पा भी है। अतः विकल्प (C) सही है

2. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. स्टेनोथर्मल जीव तापमान की एक विस्तृत श्रृंखला को सहन कर सकते हैं और पनप सकते हैं।
2. परासरण संबंधी समस्याओं के कारण मीठे पानी के जानवर समुद्री जल में अधिक समय तक जीवित नहीं रह सकते।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या –

  • कुछ जीव तापमान की एक विस्तृत श्रृंखला को सहन कर सकते हैं और पनप सकते हैं (उन्हें यूरीथर्मल कहा जाता है), लेकिन, उनमें से अधिकांश तापमान की एक संकीर्ण सीमा तक ही सीमित हैं (ऐसे जीवों को स्टेनोथर्मल कहा जाता है)। अतः कथन 1 सही नहीं है
  • कई मीठे पानी के जानवर समुद्र के पानी में लंबे समय तक नहीं रह सकते हैं और इसके विपरीत, उन्हें ऑस्मोटिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अतः कथन 2 सही है

3. निम्नलिखित में से कौन राइजोबियम बैक्टीरिया और जिन पौधों पर वे निवास करते हैं, उनके बीच सहजीवी संबंध (आंशिक रूप से या पूर्ण रूप से) दर्शाता है?
1. राइजोबियम बैक्टीरिया जड़ की गांठों के भीतर पौधों की कोशिकाओं में निवास करते हैं, जहां वे मिट्टी से नाइट्रस ऑक्साइड को अमोनिया में परिवर्तित करते हैं और पौधों को कार्बनिक नाइट्रोजन यौगिक प्रदान करते हैं।
2. पौधा, बदले में, राइजोबियम बैक्टीरिया को प्रकाश संश्लेषण का उपयोग करके बने कार्बनिक यौगिक प्रदान करता है।
नीचे दिए गए कोड का उपयोग करके सही उत्तर चुनिए:
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या –

  • राइजोबियम ग्राम-नकारात्मक मिट्टी बैक्टीरिया का एक जीनस है जो नाइट्रोजन को स्थिर करता है। राइजोबियम प्रजातियां (मुख्य रूप से) फलियां और अन्य फूल वाले पौधों की जड़ों के साथ एक एंडोसिम्बायोटिक नाइट्रोजन-फिक्सिंग एसोसिएशन बनाती हैं।
  • राइजोबियम कुछ पौधों जैसे फलियां के साथ सहजीवी संबंध बनाता है, हवा से नाइट्रोजन को अमोनिया में स्थिर करता है, जो पौधों के लिए प्राकृतिक उर्वरक के रूप में कार्य करता है। बदले में, पौधा बैक्टीरिया को प्रकाश संश्लेषण द्वारा निर्मित कार्बनिक यौगिक प्रदान करता है। यह पारस्परिक रूप से लाभप्रद संबंध सभी राइजोबिया के लिए सच है, जिनमें से जीनस राइजोबियम एक विशिष्ट उदाहरण है। अतः दोनों कथन सही हैं

4. खाद्य श्रृंखला में क्रमिक रूप से उच्च स्तर पर सहिष्णु जीवों के ऊतकों में किसी पदार्थ, जैसे कि जहरीले रसायन, की बढ़ती सांद्रता की घटना को कहा जाता है:
(A) जैवसंचय

(B) बायोस्पार्जिंग
(C) जैव आवर्धन
(D) बायोडिल्यूशन

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – बायोमैग्निफिकेशन, जिसे बायोएम्प्लीफिकेशन या जैविक आवर्धन के रूप में भी जाना जाता है, खाद्य श्रृंखला में क्रमिक रूप से उच्च स्तर पर सहिष्णु जीवों के ऊतकों में किसी जहरीले रसायन जैसे पदार्थ की बढ़ती सांद्रता है। अतः विकल्प (C) सही है

5. पारिस्थितिक उत्तराधिकार आमतौर पर इसकी विशेषता है:
1. उत्पादकता में वृद्धि
2. आला विकास में कमी
3. खाद्य जाल की बढ़ती जटिलता
नीचे दिए गए कोड का उपयोग करके सही उत्तर चुनिए:
(A) केवल 1 और 2

(B) केवल 2 और 3
(C) केवल 1 और 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (C) 

व्याख्या – 

  • पारिस्थितिक उत्तराधिकार वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा किसी जैविक समुदाय की संरचना समय के साथ विकसित होती है। समय का पैमाना दशकों तक हो सकता है (उदाहरण के लिए, जंगल की आग के बाद), या बड़े पैमाने पर विलुप्त होने के बाद लाखों साल भी।
  • समुदाय अपेक्षाकृत कम अग्रणी पौधों और जानवरों के साथ शुरू होता है और बढ़ती जटिलता के माध्यम से विकसित होता है जब तक कि यह चरमोत्कर्ष समुदाय के रूप में स्थिर या आत्म-स्थायी नहीं हो जाता।
  • उत्तराधिकार के दो अलग-अलग प्रकार – प्राथमिक और द्वितीयक – को प्रतिष्ठित किया गया है। प्राथमिक उत्तराधिकार अनिवार्य रूप से निर्जीव क्षेत्रों में होता है – ऐसे क्षेत्र जहां मिट्टी लावा प्रवाह, नव निर्मित रेत के टीलों, या पीछे हटने वाले ग्लेशियर से छोड़ी गई चट्टानों जैसे कारकों के परिणामस्वरूप जीवन को बनाए रखने में असमर्थ है। द्वितीयक उत्तराधिकार उन क्षेत्रों में होता है जहां पहले से मौजूद समुदाय को हटा दिया गया है; इसे छोटे पैमाने की गड़बड़ी द्वारा दर्शाया जाता है जो पर्यावरण से सभी जीवन और पोषक तत्वों को समाप्त नहीं करती है।
  • बढ़ा हुआ निकेत विकास पारिस्थितिक उत्तराधिकार की विशिष्ट विशेषता है।

अतः विकल्प (C) सही है

 

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Exam Daily MCQs Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी – 14 June 2024 (Fri)

Daily MCQs : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (Science and Technology)
14 June, 2024 (Friday)

1. अतिचालकता के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. अतिचालकता एक ऐसी अवस्था है जिसमें कोई सामग्री बहुत अधिक विद्युत प्रतिरोध दिखाती है।
2. अतिचालकता सामग्री भारी मात्रा में ऊर्जा बचा सकती है, और इसका उपयोग अत्यधिक कुशल विद्युत उपकरण बनाने के लिए किया जा सकता है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (B) 

व्याख्या – अतिचालकता एक ऐसी घटना है जो अब तक शून्य से 100 डिग्री सेल्सियस के दायरे में बेहद कम तापमान पर ही संभव हो पाई है। ऐसी सामग्री की खोज जो कमरे के तापमान पर, या कम से कम प्रबंधनीय निम्न तापमान पर अतिचालकता प्रदर्शित करती हो, दशकों से चल रही है। अतिचालकता वह अवस्था है जिसमें कोई सामग्री बिल्कुल शून्य विद्युत प्रतिरोध दिखाती है। जबकि प्रतिरोध एक ऐसी संपत्ति है जो बिजली के प्रवाह को प्रतिबंधित करती है, अतिचालकता निर्बाध प्रवाह की अनुमति देती है। शून्य प्रतिरोध के कारण, सुपरकंडक्टिंग सामग्री भारी मात्रा में ऊर्जा बचा सकती है, और इसका उपयोग अत्यधिक कुशल विद्युत उपकरण बनाने के लिए किया जा सकता है। अतः केवल कथन 2 सही है

2. डार्कनेट के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. डार्कनेट गहरे छिपे इंटरनेट प्लेटफ़ॉर्म को संदर्भित करता है जिसका उपयोग कानून प्रवर्तन एजेंसियों की निगरानी से दूर रहने के लिए प्याज राउटर (ToR) की गुप्त गलियों का उपयोग करके नशीले पदार्थों की बिक्री, अश्लील सामग्री के आदान-प्रदान और अन्य अवैध गतिविधियों के लिए किया जाता है।
2. अपने एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के कारण, जब इस पर होने वाली आपराधिक गतिविधियों की जांच की बात आती है तो डार्कनेट को क्रैक करना बहुत कठिन माना जाता है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C) 

व्याख्या –

  • डार्कनेट गहरे छिपे इंटरनेट प्लेटफ़ॉर्म को संदर्भित करता है जिसका उपयोग कानून प्रवर्तन एजेंसियों की निगरानी से दूर रहने के लिए प्याज राउटर (ToR) की गुप्त गलियों का उपयोग करके नशीले पदार्थों की बिक्री, अश्लील सामग्री के आदान-प्रदान और अन्य अवैध गतिविधियों के लिए किया जाता है। अपने एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के कारण, जब इस पर होने वाली आपराधिक गतिविधियों की जांच की बात आती है तो डार्कनेट को क्रैक करना बहुत कठिन माना जाता है।
  • सामान्य तौर पर डार्कनेट का उपयोग विभिन्न कारणों से किया जा सकता है, जैसे:
    • कंप्यूटर अपराध (क्रैकिंग, फ़ाइल भ्रष्टाचार, आदि)
    • असंतुष्टों को राजनीतिक प्रतिशोध से बचाना
    • फ़ाइल साझाकरण (वेयरज़, व्यक्तिगत फ़ाइलें, अश्लील साहित्य, गोपनीय फ़ाइलें, अवैध या नकली सॉफ़्टवेयर, आदि)
    • लक्षित और सामूहिक निगरानी से नागरिकों के गोपनीयता अधिकारों की बेहतर सुरक्षा करना
    • डार्कनेट बाज़ारों पर प्रतिबंधित वस्तुओं की बिक्री
    • व्हिसलब्लोइंग और समाचार लीक
    • अवैध या अवैध वस्तुओं या सेवाओं की खरीद या बिक्री
    • नेटवर्क सेंसरशिप और सामग्री-फ़िल्टरिंग सिस्टम को दरकिनार करना, या प्रतिबंधात्मक फ़ायरवॉल नीतियों को दरकिनार करना

अतः दोनों कथन सही हैं

3. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. मलेरिया एक वायरल रोग है जो एनोफिलिस मच्छर के संक्रामक काटने से फैलता है।
2. काला-अजार जीनस लीशमैनिया के प्रोटोजोआ परजीवी के कारण होता है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या –

  • मलेरिया एक संभावित जीवन-घातक परजीवी रोग है जो प्लाज्मोडियम विविएक्स (पी.विवैक्स), प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम (पी.फाल्सीपेरम), प्लाज्मोडियम मलेरिया (पी.मलेरिया) और प्लाज्मोडियम ओवले (पी.ओवले) नामक परजीवियों के कारण होता है। यह एनोफिलिस मच्छर के संक्रामक काटने से फैलता है। अतः कथन 1 सही नहीं है
  • काला-अज़ार एक धीमी गति से बढ़ने वाली स्वदेशी बीमारी है जो जीनस लीशमैनिया के प्रोटोजोआ परजीवी के कारण होती है।
  • डेंगू एक वायरल बीमारी है. यह एडीज एजिप्टी मच्छर के संक्रामक काटने से फैलता है। अतः कथन 2 सही हैं

 

4. कभी-कभी समाचारों में देखा जाने वाला न्यूमोकोनियोसिस निम्नलिखित में से किससे संबंधित है?
(A) क्षय रोग
(B) ब्लैक लंग डिजीज
(C) उच्च रक्त शर्करा का स्तर
(D) रक्त में वसा का उच्च स्तर

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या – कोयला खदान श्रमिकों और कोयला खदानों के आसपास के समुदायों को कई प्रतिकूल बीमारियों का सामना करना पड़ता है, जिनमें कोयले की धूल के साँस के कारण होने वाली न्यूमोकोनियोसिस (आमतौर पर काले फेफड़ों की बीमारी के रूप में जाना जाता है) और साथ ही प्रदूषित पेयजल के कारण होने वाली बीमारियाँ प्रमुख हैं। अतः विकल्प (B) सही है

5. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. DNA के एक स्ट्रैंड से आनुवंशिक जानकारी को आरएनए में कॉपी करने की प्रक्रिया को प्रतिलेखन कहा जाता है।
2. बैक्टीरिया में केवल mRNA (मैसेंजर RNA) होता है और कोई tRNA (ट्रांसफर RNA) नहीं होता है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या – DNA के एक स्ट्रैंड से आनुवंशिक जानकारी को आरएनए में कॉपी करने की प्रक्रिया को प्रतिलेखन कहा जाता है। बैक्टीरिया में, आरएनए के तीन प्रमुख प्रकार होते हैं: mRNA (मैसेंजर आरएनए), tRNA (ट्रांसफर आरएनए), और rRNA (राइबोसोमल RNA)। एक कोशिका में प्रोटीन को संश्लेषित करने के लिए सभी तीन RNA की आवश्यकता होती है। mRNA टेम्पलेट प्रदान करता है, tRNA अमीनोएसिड लाता है और आनुवंशिक कोड पढ़ता है, और आरआरएनए अनुवाद के दौरान संरचनात्मक और उत्प्रेरक भूमिका निभाते हैं। एकल DNA-निर्भर RNA पोलीमरेज़ है जो बैक्टीरिया में सभी प्रकार के आरएनए के प्रतिलेखन को उत्प्रेरित करता है। RNA पोलीमरेज़ प्रमोटर से जुड़ता है और प्रतिलेखन (दीक्षा) शुरू करता है। अतः कथन 1 सही है

 

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Exam Daily MCQs Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – अर्थव्यवस्था एवं सामाजिक विकास – 13 June 2024 (Thu)

Daily MCQs : अर्थव्यवस्था एवं सामाजिक विकास (Economy and Social Development)
13 June, 2024 (Thursday)

1. यदि राजकोषीय घाटे के प्रतिशत के रूप में राजस्व घाटे में वृद्धि होती है, तो यह संभवतः क्या संकेत दे सकता है?
1. सरकार द्वारा भौतिक संपत्तियों का निर्माण
2. देश में वितरित सब्सिडी में वृद्धि
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग करक सही विकल्प चुनिए:
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या – चूंकि राजकोषीय घाटा = राजस्व घाटा + पूंजीगत व्यय – उधार को छोड़कर पूंजीगत प्राप्तियां,राजकोषीय घाटे के स्थिर रहने के साथ राजस्व घाटे में वृद्धि से पूंजीगत व्यय में कमी आएगी। इससे सरकार द्वारा कम संपत्ति निर्माण किया जाएगा जिससे बुनियादी ढांचे का विकास कम हो सकता है। अतः कथन 1 सही नहीं है

2. जीडीपी डिफ्लेटर के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. जीडीपी डिफ्लेटर एक वर्ष में किसी अर्थव्यवस्था में सभी नए, घरेलू स्तर पर उत्पादित, अंतिम वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों के स्तर का माप है।

2. सीपीआई की तरह, जीडीपी डिफ्लेटर वस्तुओं और सेवाओं की एक निश्चित टोकरी पर आधारित है।
3. जब जीडीपी डिफ्लेटर नकारात्मक होता है, तो इसका अनिवार्य रूप से मतलब है कि अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या –

  • अर्थशास्त्र में, जीडीपी डिफ्लेटर एक वर्ष में किसी अर्थव्यवस्था में सभी नए, घरेलू स्तर पर उत्पादित, अंतिम वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों के स्तर का माप है। अतः कथन 1 सही है
  • उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) की तरह, जीडीपी डिफ्लेटर एक विशिष्ट आधार वर्ष के संबंध में मूल्य मुद्रास्फीति/अपस्फीति का एक उपाय है। जीडीपी डिफ्लेटर सीपीआई सूचकांक की तुलना में अधिक व्यापक मुद्रास्फीति माप है क्योंकि यह वस्तुओं की एक निश्चित टोकरी पर आधारित नहीं है। अतः कथन 2 सही नहीं हैं

3. लाफ़र वक्र निम्नलिखित में से किसके बीच संबंध है?
(A) कर उछाल और कर लोच

(B) कर की दर और कर उछाल
(C) कर की दर और कर लोच
(D) कर राजस्व और कर की दर

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – अर्थशास्त्र में, आपूर्ति पक्ष के अर्थशास्त्री आर्थर लाफ़र द्वारा विकसित लाफ़र वक्र, कराधान की दरों और सरकार के कर राजस्व के परिणामी स्तरों के बीच एक सैद्धांतिक संबंध को दर्शाता है। लाफ़र वक्र मानता है कि 0% और 100% की चरम कर दरों पर कोई कर राजस्व नहीं बढ़ाया जाता है, और 0% और 100% के बीच एक कर दर होती है जो सरकारी कर राजस्व को अधिकतम करती है। वक्र का आकार कर योग्य आय लोच का एक कार्य है – अर्थात, कराधान की दर में परिवर्तन के जवाब में कर योग्य आय में परिवर्तन होता है। लाफ़र वक्र को आम तौर पर एक ग्राफ के रूप में दर्शाया जाता है जो शून्य राजस्व के साथ 0% कर पर शुरू होता है, कराधान की मध्यवर्ती दर पर राजस्व की अधिकतम दर तक बढ़ जाता है, और फिर 100% कर दर पर फिर से शून्य राजस्व पर गिर जाता है। अतः विकल्प (D) सही है

4. एक रसीद एक पूंजीगत रसीद है यदि वह निम्नलिखित में से किस शर्त को पूरा करती है?
1. प्राप्तियों से सरकार के लिए दायित्व उत्पन्न होना चाहिए।

2. प्राप्तियों से सरकारी संपत्ति में कमी होनी चाहिए।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – एक रसीद एक पूंजीगत रसीद है यदि वह दो शर्तों में से किसी एक को पूरा करती है:

  • प्राप्तियों से सरकार के लिए दायित्व उत्पन्न होना चाहिए। उदाहरण के लिए, उधार पूंजीगत प्राप्तियां हैं क्योंकि इससे सरकार की देनदारी में वृद्धि होती है। हालाँकि, प्राप्त कर पूंजीगत प्राप्ति नहीं है क्योंकि इसके परिणामस्वरूप कोई देनदारी नहीं बनती है।
  • प्राप्तियों के कारण संपत्ति में कमी होनी चाहिए। उदाहरण के लिए, सार्वजनिक उद्यम के शेयरों की बिक्री से प्राप्त आय एक पूंजीगत प्राप्ति है क्योंकि इससे सरकार की संपत्ति में कमी आती है।

5. जीडीपी डिफ्लेटर के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. जीडीपी डिफ्लेटर मूल रूप से मुद्रास्फीति का एक माप है।
2. यह यह दिखाने में मदद करता है कि उत्पादन में वृद्धि के बजाय ऊंची कीमतों के कारण सकल घरेलू उत्पाद में किस हद तक वृद्धि हुई है।
3. इसमें केवल वे वस्तुएं और सेवाएं शामिल हैं जिनका घरों में सीधे उपभोग किया जाता है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या –  जीडीपी डिफ्लेटर, जिसे अंतर्निहित मूल्य डिफ्लेटर भी कहा जाता है, मुद्रास्फीति का एक माप है। यह किसी अर्थव्यवस्था द्वारा किसी विशेष वर्ष में मौजूदा कीमतों पर उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं के मूल्य और आधार वर्ष के दौरान प्रचलित कीमतों का अनुपात है। यह अनुपात यह दिखाने में मदद करता है कि उत्पादन में वृद्धि के बजाय ऊंची कीमतों के कारण सकल घरेलू उत्पाद में किस हद तक वृद्धि हुई है।  अतः कथन 1 और 2 सही हैं

 

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – इतिहास एवं कला-संस्कृति – 12 June 2024 (Wed)

Daily MCQs : इतिहास एवं कला-संस्कृति (History and Art & Culture)
12 June, 2024 (Wednesday)

1. सूफीवाद के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. सूफियों का मानना है कि सत्य का ज्ञान केवल आत्म-अनुभव पर आधारित हो सकता है।
2. उनका मानना है कि चतुराई से सर्वशक्तिमान को मनाया जा सकता है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?
केवल 1

केवल 2
1 और 2 दोनों
न ही 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A) 

व्याख्या –

  • सूफियों का मानना है कि सत्य का ज्ञान केवल आत्म-अनुभव पर आधारित हो सकता है। स्वयं के अनुभव के अलावा सत्य को महसूस करने का कोई अन्य तरीका नहीं है। अतः कथन 1 सही है
  • चतुराई से सर्वशक्तिमान को राजी नहीं किया जा सकता। जो व्यक्ति स्वयं को दुर्बल समझता है और संकट में भगवान से प्रार्थना करता है, उसे तुरंत उनकी कृपा प्राप्त होती है। अतः कथन 2 सही नहीं है

 

2. बहमनी साम्राज्य के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. बहमनी सुल्तान फ़ारसी भाषा के संरक्षक थे।
2. बिदरी कलाकृति अक्सर इस साम्राज्य से जुड़ी हुई है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?
केवल 1

केवल 2
1 और 2 दोनों
न ही 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – 

  • बहमनी सल्तनत दक्षिण भारत में दक्कन का एक मुस्लिम राज्य था और महान मध्ययुगीन भारतीय राज्यों में से एक था। यह दक्षिण भारत में पहला स्वतंत्र इस्लामी साम्राज्य था। अतः कथन 1 सही है
  • राजवंश के कुछ सदस्य फ़ारसी भाषा में पारंगत हो गए और उन्होंने फ़ारसी भाषा में अपना साहित्य रचा। उस समय बीदर के शिल्पकार तांबे और चांदी पर जड़ाई के काम के लिए इतने प्रसिद्ध थे कि इसे बिदरी के नाम से जाना जाने लगा। अतः कथन 2 सही है

 

3. मौर्य साम्राज्य में कुप्याध्यक्ष निम्नलिखित में से किसका एक प्रभारी अधिकारी था?
(A) जेल

(B) स्वास्थ्य क्लीनिक
(C) कराधान
(D) वन विभाग

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – चन्द्रगुप्त मौर्य के प्रशासन में कुप्याध्यक्ष (वन उत्पाद अधीक्षक) द्वारा प्रशासित एक नियमित वन विभाग था। उनका कर्तव्य जंगलों की उत्पादकता बढ़ाना, पेड़ों की कीमत तय करके उन्हें बेचना, मजबूत पेड़ों का वर्गीकरण करना आदि था। अतः विकल्प (D) सही है

4. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. यह गुफा बाराबर पहाड़ियों की कठोर-अखंड ग्रेनाइट चट्टान पर बनाई गई है, जिसके बाईं ओर छोटी सुदामा गुफा है।
2. गुफा के “घुमावदार वास्तुशिल्प” पर अलंकरण में स्तूपों की ओर जाते हुए हाथियों की नक्काशी शामिल है।
उपर्युक्त कथनों का संदर्भ निम्नलिखित में से किस से है?
(A) उदयगिरि गुफाएँ
(B) कन्हेरी गुफाएँ
(C) लोमस ऋषि गुफाएँ
(D) एलीफेंटा गुफाएं

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – लोमस ऋषि गुफा बराबर पहाड़ियों की कठोर-अखंड ग्रेनाइट चट्टान पर बनाई गई है, जिसके बाईं ओर छोटी सुदामा गुफा है। चट्टान को काटकर बनाई गई यह गुफा एक अभयारण्य के रूप में बनाई गई थी। इसका निर्माण तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में मौर्य साम्राज्य के अशोक काल के दौरान आजीवकों की पवित्र वास्तुकला के हिस्से के रूप में किया गया था। यह भारत में कई अन्य बौद्ध और जैन गुफाओं में बने ऐसे सभी धनुषाकार प्रवेश द्वारों के लिए एक मॉडल बन गया, जैसे कि महाराष्ट्र में अजंता या कार्ली के बहुत बड़े बौद्ध चैत्य हॉल। अतः विकल्प (C) सही है

5. निम्नलिखित में से कौन बौद्ध शिक्षा और कला का महान केंद्र था/थे?
1. नालंदा
2. ओदंतपुरी

3. विक्रमशिला
4. सोमरूप
उपर्युक्त में से कितने विकल्प सही हैं?
(A) 1, 3 और 4 

(B) 2, 3 और 4 
(C) 1, 2 और 3
(D) 1, 2, 3 और 4 

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)   

व्याख्या – पाल काल (750 ई. से 12वीं शताब्दी के मध्य तक) भारत में बौद्ध धर्म और बौद्ध कला का अंतिम महान चरण देखा गया। नालंदा, ओदंतपुरी, विक्रमशिला और सोमरूप के बौद्ध मठ (महाविहार) बौद्ध शिक्षा और कला के महान केंद्र थे। अतः विकल्प (D) सही है

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – भारत एवं विश्व का भूगोल – 11 June 2024 (Tue)

Daily MCQs : भारत एवं विश्व का भूगोल (India and World Geography)
11 June, 2024 (Tuesday)

1. निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिए :
1. वाष्पीकरण: पानी के तरल से गैसीय अवस्था में बदलने की प्रक्रिया

2. स्ट्रैटोक्यूम्यलस बादल: कुछ ऊर्ध्वाधर ऊँचाई के साथ निम्न-स्तरीय स्तरित बादल
उपर्युक्त में से कितने युग्म सही सुमेलित हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – 

  • वाष्पीकरण: पानी के तरल से गैसीय अवस्था में बदलने की प्रक्रिया वास्तव में वाष्पीकरण है। यह तब होता है जब पानी के अणु तरल चरण से बाहर निकलने और जल वाष्प के रूप में वायुमंडल में प्रवेश करने के लिए पर्याप्त ऊर्जा प्राप्त करते हैं। अतः युग्म 1 सही है
  • स्ट्रैटोक्यूम्यलस बादल: स्ट्रैटोक्यूम्यलस बादल कुछ ऊर्ध्वाधर ऊँचाई के साथ निम्न-स्तरीय स्तरित बादल हैं। वे अक्सर गोल, ढेलेदार बादलों की श्रृंखला के रूप में दिखाई देते हैं। ये बादल आम तौर पर कम ऊंचाई पर पाए जाते हैं और अपने सपाट और एक समान दिखने के लिए जाने जाते हैं। अतः युग्म 2 सही है

अतः विकल्प (C) सही उत्तर है।

2. निम्नलिखित में से कौन-सा वह कारक नहीं है जो किसी विशेष क्षेत्र में होने वाली वर्षा की मात्रा को प्रभावित करता है?
(A) अक्षांश
(B) ऊंचाई
(C) महासागरीय धाराएँ
(D) पृथ्वी का घूर्णन 

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – पृथ्वी के घूमने से किसी विशेष क्षेत्र में होने वाली वर्षा की मात्रा पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। अन्य तीन विकल्प वे सभी कारक हैं जो किसी विशेष क्षेत्र में होने वाली वर्षा की मात्रा को प्रभावित करते हैं। अतः विकल्प (D) सही उत्तर है

3. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
कथन-I: तापमान का व्युत्क्रमण वायुमंडल के सामान्य ऊर्ध्वाधर तापमान वितरण में परिवर्तन को संदर्भित करता है।
कथन-II: व्युत्क्रमण ठंडी वायुराशियों के ऊपर गर्म वायुराशियों की उपस्थिति के कारण होता है।
उपर्युक्त कथनों के संबंध में निम्नलिखित में से कौन-सा सही है?
(A) कथन-I और कथन-II दोनों सही हैं तथा कथन-II, कथन-I की सही व्याख्या है
(B) कथन-I और कथन-II दोनों सही हैं तथा कथन-II, कथन-I के लिए सही व्याख्या नहीं है
(C) कथन-I सही है किन्तु कथन-II गलत है
(D) कथन-I गलत है किन्तु कथन-II सही है 

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)   

व्याख्या – 

  • तापमान का व्युत्क्रमण वायुमंडल के सामान्य ऊर्ध्वाधर तापमान वितरण में परिवर्तन को संदर्भित करता है। सामान्यतः ऊंचाई के साथ हवा का तापमान घटता जाता है। हालाँकि, व्युत्क्रमण में, हवा का तापमान ऊंचाई के साथ बढ़ता है। अतः कथन-I सही है
  • व्युत्क्रमण ठंडी वायुराशियों के ऊपर गर्म वायुराशियों की उपस्थिति के कारण होता है। ऐसा तब हो सकता है जब ठंडी हवा नीचे चली जाती है और गर्म हवा ऊपर उठ जाती है। जब हवा में बहुत अधिक नमी होती है तो व्युत्क्रमण भी हो सकता है, क्योंकि नमी गर्मी को रोक सकती है और हवा को ठंडा होने से रोक सकती है। अतः कथन-II सही है
  • कथन-II कथन-I की सही व्याख्या है क्योंकि यह बताता है कि व्युत्क्रमण क्यों होते हैं।

 

अतः विकल्प (A) सही उत्तर है

 

4. मूंगा चट्टानों के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. इनका निर्माण कोरल पॉलीप्स और शैवाल के बीच पारस्परिक संबंध से होता है।
2. वे बढ़ते समुद्री तापमान और प्रदूषण जैसे पर्यावरणीय तनावों के प्रति संवेदनशील हैं।
उपर्युक्त कथनों में से कितने सही हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या –

  • कोरल पॉलीप्स छोटे जीव हैं जो एक कठोर एक्सोस्केलेटन बनाने के लिए कैल्शियम कार्बोनेट का स्राव करते हैं, जो चट्टान की संरचना बनाता है। उनका ज़ोक्सांथेला नामक प्रकाश संश्लेषक शैवाल के साथ पारस्परिक सहजीवी संबंध है, जो उनके ऊतकों के अंदर रहते हैं। शैवाल प्रकाश संश्लेषण के माध्यम से भोजन प्रदान करते हैं और बदले में, कोरल पॉलीप्स शैवाल को आश्रय और पोषक तत्व प्रदान करते हैं। अतः कथन 1 सही है
  • जब पानी का तापमान बढ़ता है, तो मूंगा चट्टानें मूंगा विरंजन का अनुभव कर सकती हैं, एक ऐसी घटना जहां मूंगा सहजीवी शैवाल को बाहर निकाल देता है, जिससे मूंगा सफेद हो जाता है और संभावित रूप से उसकी मृत्यु हो जाती है। अवसादन, पोषक तत्वों के अपवाह और रासायनिक संदूषकों जैसे कारकों से होने वाला प्रदूषण भी मूंगा चट्टानों को नुकसान पहुंचा सकता है। अतः कथन 2 सही है

अतः विकल्प (C) सही उत्तर है

5. समुद्री गहराई और खाइयों के संदर्भ में, निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिए:
1. मारियाना ट्रेंच – प्रशांत महासागर
2. प्यूर्टो रिको ट्रेंच – अटलांटिक महासागर
3. जावा ट्रेंच – हिंद महासागर
4. कुरील-कामचटका गर्त – आर्कटिक महासागर
उपर्युक्त में से कितने युग्म सही सुमेलित हैं?
(A) केवल एक
(B) केवल दो
(C) केवल तीन
(D) सभी चार

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या –

  • मारियाना ट्रेंच पश्चिमी प्रशांत महासागर में स्थित है और दुनिया के महासागरों का सबसे गहरा हिस्सा है। अतः युग्म 1 सही सुमेलित है
  • प्यूर्टो रिको ट्रेंच प्यूर्टो रिको के उत्तर में अटलांटिक महासागर में स्थित है तथा अटलांटिक महासागर का सबसे गहरा हिस्सा है। अतः युग्म 2 सही सुमेलित है
  • हिंद महासागर में जावा ट्रेंच जैसी कोई सुविधा नहीं है। जावा ट्रेंच एक अस्तित्वहीन ट्रेंच है। अतः युग्म 3 सही सुमेलित नहीं है
  • कुरील-कामचटका गर्त आर्कटिक महासागर में नहीं, बल्कि उत्तर पश्चिम प्रशांत महासागर में स्थित है। यह कुरील द्वीप समूह से लेकर कामचटका प्रायद्वीप तक फैला हुआ है। अतः युग्म 4 सही सुमेलित नहीं है

 

अतः विकल्प (B) सही उत्तर है

 

 

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Exam Daily MCQs Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी – 08 June 2024 (Sat)

Daily MCQs : पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी (Environment and Ecology)
08 June, 2024 (Saturday)

1. पश्चिमी घाट के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. पश्चिमी घाट दुनिया में जैविक विविधता के आठ हॉटस्पॉट में से एक है।

2. पश्चिमी घाट हिमालय पर्वत से भी पुराना है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या –

  • यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है और दुनिया में जैविक विविधता के आठ हॉटस्पॉट में से एक है। यूनेस्को के अनुसार, पश्चिमी घाट हिमालय से भी पुराने हैं। अतः कथन 1 और 2 सही हैं

2. इनमें से कौन सा पारिस्थितिक तंत्र किसी दिए गए क्षेत्र की इकाई के लिए सबसे अधिक कार्बन एकत्र करेगा?
(A) घास का मैदान

(B) साल्टमार्श
(C) परिपक्व उष्णकटिबंधीय वन
(D) अनाच्छादित मिट्टी

Show Answer/Hide

उत्तर – (B)

व्याख्या – साल्टमार्श प्रमुख तटीय ‘ब्लू कार्बन’ आवासों में से एक है, जो जमीन के ऊपर और नीचे बायोमास और तलछट के भीतर कार्बन जमा करने की क्षमता के लिए पहचाना जाता है। साल्टमार्श परिपक्व उष्णकटिबंधीय वनों के लिए दर्ज की गई दर से दो से चार गुना अधिक दर पर कार्बन सोखते हैं। अतः विकल्प (B) सही है

3. कई देश सदी के मध्य तक शुद्ध-शून्य उत्सर्जन परिदृश्य हासिल करने का लक्ष्य बना रहे हैं। शुद्ध-शून्य उत्सर्जन के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. नेट-शून्य लक्ष्य 2015 के पेरिस समझौते में शामिल नहीं है।

2. जंगलों जैसे अधिक कार्बन सिंक बनाकर और कार्बन कैप्चर और भंडारण जैसी भविष्य की प्रौद्योगिकियों पर भरोसा करके शुद्ध-शून्य उत्सर्जन प्राप्त किया जा सकता है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही नहीं हैं/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A) 

व्याख्या – जंगलों जैसे अधिक कार्बन सिंक बनाकर उत्सर्जन के अवशोषण को बढ़ाया जा सकता है, जबकि वायुमंडल से गैसों को हटाने के लिए कार्बन कैप्चर और भंडारण जैसी भविष्य की प्रौद्योगिकियों की आवश्यकता होती है। जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए नई वैश्विक वास्तुकला, 2015 के पेरिस समझौते में नेट-शून्य लक्ष्य का उल्लेख नहीं है। पेरिस समझौते के लिए प्रत्येक हस्ताक्षरकर्ता को सर्वोत्तम जलवायु कार्रवाई करने की आवश्यकता है। अतः कथन 1 और 2 सही हैं।

4. सीसा एक प्राकृतिक रूप से पाई जाने वाली जहरीली धातु है जो पृथ्वी की पपड़ी में पाई जाती है। इसके व्यापक उपयोग के परिणामस्वरूप दुनिया के कई हिस्सों में व्यापक पर्यावरणीय प्रदूषण, मानव जोखिम और महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हुई हैं। निम्न पर विचार कीजिए:
1. मोटर वाहनों की बैटरियाँ
2. पेंट्स
3. सौंदर्य प्रसाधन और पारंपरिक औषधियाँ
4. सिरेमिक ग्लेज़
5. गलाना
उपर्युक्त में से कितने सीसा प्रदूषण में योगदान दे सकते हैं?
(A) 1, 2, 4 व 5

(B) 2, 3 व 5
(C) केवल 1
(D) 1, 2, 3, 4 व 5

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)   

व्याख्या –

  • सीसा एक प्राकृतिक रूप से पाई जाने वाली जहरीली धातु है जो पृथ्वी की पपड़ी में पाई जाती है। इसके व्यापक उपयोग के परिणामस्वरूप दुनिया के कई हिस्सों में व्यापक पर्यावरणीय प्रदूषण, मानव जोखिम और महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हुई हैं।
  • पर्यावरण प्रदूषण के महत्वपूर्ण स्रोतों में खनन, गलाने, विनिर्माण और रीसाइक्लिंग गतिविधियां शामिल हैं, और, कुछ देशों में, सीसा पेंट, सीसा गैसोलीन और सीसा विमानन ईंधन का निरंतर उपयोग शामिल है।
  • वैश्विक सीसे की तीन-चौथाई से अधिक खपत मोटर वाहनों के लिए सीसा-एसिड बैटरियों के निर्माण के लिए होती है। हालाँकि, सीसा का उपयोग कई अन्य उत्पादों में भी किया जाता है, उदाहरण के लिए पिगमेंट, पेंट, सोल्डर, सना हुआ ग्लास, सीसा क्रिस्टल कांच के बर्तन, गोला-बारूद, सिरेमिक ग्लेज़, आभूषण, खिलौने और कुछ सौंदर्य प्रसाधन और पारंपरिक दवाओं में। सीसे के पाइपों या सीसे के सोल्डर से जुड़े पाइपों के माध्यम से दिए जाने वाले पेयजल में सीसा हो सकता है। वैश्विक वाणिज्य में अधिकांश बढ़त अब पुनर्चक्रण से प्राप्त होती है। अतः विकल्प (D) सही है

5. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. फाइटोप्लांकटन प्राथमिक उत्पादक के रूप में जलीय खाद्य जाल की नींव हैं, और वे वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने में मदद करते हैं।

2. ज़ोप्लांकटन फाइटोप्लांकटन पर फ़ीड करता है और प्राथमिक उत्पादकों से द्वितीयक उपभोक्ताओं तक कार्बनिक पदार्थों के हस्तांतरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या –

  • फाइटोप्लांकटन प्राथमिक उत्पादक के रूप में जलीय खाद्य जाल की नींव हैं।
  • ज़ोप्लांकटन फाइटोप्लांकटन पर फ़ीड करता है और खाद्य श्रृंखला के खाद्य जाल, पोषक तत्वों के पुनर्चक्रण और प्राथमिक उत्पादकों से मछलियों जैसे माध्यमिक उपभोक्ताओं तक कार्बनिक पदार्थों के हस्तांतरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

अतः दोनों कथन सही हैं

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Exam Daily MCQs Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी – 07 June 2024 (Fri)

Daily MCQs : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (Science and Technology)
07 June, 2024 (Friday)

1. डॉपलर रडार के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. डॉपलर रडार रेडियो तरंगों के तंत्र का उपयोग करके मौसम की भविष्यवाणी करते हैं।

2. वे मौसम प्रणालियों और क्लाउड बैंड की गति को ट्रैक करते हैं, और इस प्रकार एक क्षेत्र में वर्षा का आकलन करते हैं।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – 

  • राडार में, ऊर्जा की एक किरण – जिसे रेडियो तरंगें कहा जाता है – एक एंटीना से उत्सर्जित होती है। जब यह किरण वायुमंडल में किसी वस्तु से टकराती है, तो ऊर्जा सभी दिशाओं में बिखर जाती है, जिनमें से कुछ सीधे रडार पर परावर्तित हो जाती हैं। किरण को विक्षेपित करने वाली वस्तु जितनी बड़ी होगी, रडार को बदले में ऊर्जा की मात्रा उतनी ही अधिक प्राप्त होगी। किरण के संचारित होने और रडार पर लौटने के लिए आवश्यक समय का निरीक्षण करने से मौसम पूर्वानुमान विभागों को वायुमंडल में बारिश की बूंदों को “देखने” और रडार से उनकी दूरी मापने की अनुमति मिलती है। डॉपलर रडार को जो खास बनाता है वह यह है कि यह लक्ष्य की स्थिति के साथ-साथ उनकी गति दोनों के बारे में जानकारी प्रदान कर सकता है। अतः कथन 1 और 2 सही हैं

2. कभी-कभी समाचारों में देखा जाने वाला शब्द ‘डेटा स्क्रैपिंग’ सही रूप से दर्शाता है:
(A) किसी वेबसाइट में मूल डेटा सामग्री को संशोधित करना

(B) किसी वेबसाइट से डेटा एक्सेस को प्रतिबंधित करना
(C) किसी वेबसाइट से डेटा निकालने की प्रक्रिया
(D) किसी वेबसाइट से डेटा हटाने की प्रक्रिया

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या – डेटा स्क्रैपिंग, या वेब स्क्रैपिंग, किसी वेबसाइट से डेटा निकालने की प्रक्रिया है। स्क्रैपर बॉट इन वेबसाइटों से जानकारी प्राप्त करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। डेटा निकालने के लिए बॉट डिज़ाइन करने वाले उपयोगकर्ता को स्क्रैपर कहा जाता है।

 

3. अंतरिक्ष स्टेशन के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. अंतरिक्ष स्टेशन एक बड़ा अंतरिक्ष यान है जो लंबे समय तक निचली-पृथ्वी की कक्षा में रहता है।
2. अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पांच अंतरिक्ष एजेंसियों द्वारा निर्मित पहला पूर्णतः कार्यात्मक अंतरिक्ष स्टेशन है।
उपर्युक्त में से कितने कथन सही नहीं हैं/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या –

  • एक अंतरिक्ष स्टेशन मूलतः एक बड़ा अंतरिक्ष यान है जो लंबे समय तक निचली-पृथ्वी की कक्षा में रहता है। यह अंतरिक्ष में एक बड़ी प्रयोगशाला की तरह है, और अंतरिक्ष यात्रियों को माइक्रोग्रैविटी में प्रयोग करने के लिए इसमें सवार होने और हफ्तों या महीनों तक रहने की अनुमति देता है। अतः कथन 1 सही है
  • पूर्व सोवियत संघ का मीर अंतरिक्ष स्टेशन, और बाद में रूस द्वारा संचालित, 1986 से 2001 तक कार्यात्मक था। आईएसएस 1998 से अंतरिक्ष में है, और पांच भाग लेने वाली अंतरिक्ष एजेंसियों के बीच अनुकरणीय सहयोग के लिए जाना जाता है। यह: NASA (संयुक्त राज्य अमेरिका), रोस्कोस्मोस (रूस), JAXA (जापान), ESA (यूरोप), और CSA (कनाडा)। अतः कथन 2 सही नहीं है

4. पराबैंगनी विकिरण के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. पराबैंगनी (यूवी) विकिरण प्राकृतिक रूप से सूर्य द्वारा उत्सर्जित होता है।
2. पराबैंगनी विकिरण की तरंग दैर्ध्य सीमा दृश्य प्रकाश की तुलना में अधिक होती है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (A)

व्याख्या – पराबैंगनी (यूवी) सूर्य द्वारा प्राकृतिक रूप से उत्सर्जित एक प्रकार का प्रकाश या विकिरण है। यह 100-400 एनएम की तरंग दैर्ध्य सीमा को कवर करता है। मानव दृश्य प्रकाश की सीमा 380-700 एनएम तक होती है। यूवी को तीन बैंडों में बांटा गया है: यूवी-सी (100-280 एनएम), यूवी-बी (280-315 एनएम) और यूवी-ए (315-400 एनएम)। सूर्य से UV-A और UV-B किरणें हमारे वायुमंडल में संचारित होती हैं और सभी UV-C ओजोन परत द्वारा फ़िल्टर की जाती हैं। अतः कथन 1 सही है जबकि कथन 2 सही नहीं है

5. ज़ूनोटिक रोगों के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. ज़ूनोटिक रोग मुख्य रूप से संक्रामक रोग हैं जो प्राकृतिक रूप से कशेरुक जानवरों और मनुष्यों के बीच प्रसारित होते हैं।
2. ब्रुसेलोसिस एक ज़ूनोटिक संक्रमण है जो ब्रुसेला जीनस के बैक्टीरिया के कारण होता है।
3. ज़ूनोटिक रोगजनक बैक्टीरिया, वायरल या परजीवी हो सकते हैं, या अपरंपरागत एजेंट शामिल हो सकते हैं।
उपरोक्त में से कौन सा कथन सही है?
(A) केवल 1 और 2
(B) केवल 2 और 3
(C) केवल 1 और 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – ज़ूनोसिस एक संक्रामक बीमारी है जो गैर-मानव जानवर से मनुष्यों में फैल गई है। ज़ूनोटिक रोगज़नक़ बैक्टीरिया, वायरल या परजीवी हो सकते हैं, या अपरंपरागत एजेंटों को शामिल कर सकते हैं और सीधे संपर्क या भोजन, पानी या पर्यावरण के माध्यम से मनुष्यों में फैल सकते हैं। विभिन्न अध्ययनों से संकेत मिलता है कि मौजूदा और उभरते संक्रामक रोगों में से दो-तिहाई से अधिक ज़ूनोटिक हैं। हाल के वर्षों में निपाह वायरस, इबोला, गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम (एसएआरएस), मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (एमईआरएस) और एवियन इन्फ्लुएंजा जैसे वायरल प्रकोप का सीमा पार प्रभाव। ब्रुसेलोसिस एक ज़ूनोटिक संक्रमण है जो ब्रुसेला जीनस के बैक्टीरिया के कारण होता है। अतः, सभी कथन सही हैं

 

Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Exam Daily MCQs Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

Daily MCQs – अर्थव्यवस्था एवं सामाजिक विकास – 06 June 2024 (Thu)

Daily MCQs : अर्थव्यवस्था एवं सामाजिक विकास (Economy and Social Development)
06 June, 2024 (Thursday)

1. निम्नलिखित में से कौन सा कथन ‘बीज पूंजी’ का सबसे अच्छा वर्णन करता है?
(A) मानसून के मौसम में खेती के लिए बीज खरीदने के लिए आवश्यक आवश्यक पूंजी।

(B) यह शेयर बाजार में प्रारंभिक निवेश करने के लिए आवश्यक पूंजी है।
(C) सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के लिए सरकार द्वारा दी गई बेलआउट पूंजी।
(D) यह एक नया व्यवसाय शुरू करने के लिए आवश्यक प्रारंभिक पूंजी है।

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – बीज पूंजी एक नया व्यवसाय शुरू करने के लिए आवश्यक धन है। यह प्रारंभिक फंडिंग, जो आम तौर पर व्यवसाय के मालिकों और शायद दोस्तों और परिवार से आती है, बाजार अनुसंधान, उत्पाद अनुसंधान और विकास (R&D) और व्यवसाय योजना विकास जैसी प्रारंभिक गतिविधियों का समर्थन करती है। अतः विकल्प (D) सही है

2. घाटे के बजट को कम करने के लिए सरकार निम्नलिखित में से कौन सा कदम उठा सकती है?
1. राजस्व व्यय को कम करना
2. नई कल्याणकारी योजनाएं शुरू करना
3. सब्सिडी को तर्कसंगत बनाना
4. आयात शुल्क कम करना
नीचे दिए गए कोड का उपयोग करके सही उत्तर चुनिए:
(A) केवल 1 और 2

(B) केवल 2 और 3
(C) केवल 1 और 3
(D) 1, 2 और 3

Show Answer/Hide

उत्तर – (C)

व्याख्या –

  • कथन 1: अनावश्यक राजस्व व्यय राजकोषीय घाटे को बढ़ाता है, और चूंकि यह सरकारी खर्च का बहुमत है, इसलिए इसकी कमी का राजकोषीय घाटे पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है।
  • कथन 2: इससे राजकोषीय घाटा और बढ़ेगा।
  • कथन 3: सब्सिडी सरकारी खर्च का एक प्रमुख घटक है, और इसकी कमी से राजकोषीय घाटे में कमी आएगी।
  • कथन 4: यह कर राजस्व को कम करता है और इस प्रकार राजकोषीय घाटे को बढ़ाता है।

3. स्थिरीकरण उपायों और संरचनात्मक सुधार उपायों के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. स्थिरीकरण उपाय दीर्घकालिक उपाय हैं, जिनका उद्देश्य भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में कठोरता को दूर करके अर्थव्यवस्था की दक्षता में सुधार करना और इसकी अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाना है।
2. संरचनात्मक सुधार उपाय अल्पकालिक उपाय हैं, जिनका उद्देश्य भुगतान संतुलन में विकसित हुई कुछ कमजोरियों को ठीक करना और मुद्रास्फीति को नियंत्रण में लाना है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1

(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1, न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – स्थिरीकरण उपाय अल्पकालिक उपाय हैं, जिनका उद्देश्य भुगतान संतुलन में विकसित हुई कुछ कमजोरियों को ठीक करना और मुद्रास्फीति को नियंत्रण में लाना है। सरल शब्दों में इसका मतलब यह है कि पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार बनाए रखने और बढ़ती कीमतों को नियंत्रण में रखने की आवश्यकता थी। दूसरी ओर, संरचनात्मक सुधार नीतियां दीर्घकालिक उपाय हैं, जिनका उद्देश्य भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में कठोरता को दूर करके अर्थव्यवस्था की दक्षता में सुधार करना और इसकी अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाना है। अतः दोनों कथन सही नहीं हैं।

4. सकल पूंजी निर्माण आवश्यक रूप से बढ़ेगा यदि:
1. सकल घरेलू बचत बढ़ती है
2. सकल घरेलू उपभोग बढ़ता है
3. जीडीपी बढ़ती है
नीचे दिए गए कोड का उपयोग करके सही उत्तर चुनिए:
(A) केवल 1

(B) केवल 1 और 2
(C) केवल 1 और 3
(D) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Show Answer/Hide

उत्तर – (D)

व्याख्या – सरल शब्दों में सकल पूंजी निर्माण, किए गए निवेश के बराबर है। इसे पहले सकल घरेलू निवेश कहा जाता था। जीडीपी का जो हिस्सा उपयोग किया जाता है उसे सकल घरेलू खपत कहा जाता है, जबकि जो हिस्सा बचाया जाता है वह सकल घरेलू बचत (जीडीएस) है। इस जीडीएस का कुछ हिस्सा वापस निवेश किया जाएगा, और इसे सकल पूंजी निर्माण कहा जाता है। अब, जीडीपी या जीडीएस में वृद्धि से पूंजी निर्माण में वृद्धि होना जरूरी नहीं है क्योंकि कितना निवेश किया जाता है यह कई अन्य कारकों पर निर्भर करेगा।

5. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
1. वास्तविक जीडीपी वृद्धि यह मापती है कि एक वर्ष के दौरान अर्थव्यवस्था में वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन वास्तविक भौतिक रूप में कितना बढ़ा है।
2. नाममात्र जीडीपी वृद्धि उत्पादन और कीमतों दोनों में वृद्धि के परिणामस्वरूप आय में वृद्धि को मापने में मदद करती है।
उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1, न ही 2

Show Answer/Hide

उत्तर – (C) 

व्याख्या –

  • सरल शब्दों में, वास्तविक जीडीपी मुद्रास्फीति से अलग की गई नाममात्र जीडीपी है। वास्तविक जीडीपी वृद्धि इस प्रकार मापती है कि एक वर्ष के दौरान अर्थव्यवस्था में वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन वास्तविक भौतिक रूप में कितना बढ़ गया है। दूसरी ओर, नाममात्र जीडीपी वृद्धि, उत्पादन और कीमतों दोनों में वृद्धि के परिणामस्वरूप आय में वृद्धि का एक उपाय है। अतः कथन 2 और 3 सही हैं
Read Also :
All Daily MCQs  Click Here
Uttarakhand Study Material in Hindi Language (हिंदी भाषा में) Click Here
Uttarakhand Study Material in English Language
Click Here 
Uttarakhand Study Material One Liner in Hindi Language
Click Here
Previous Year Solved Paper  Click Here
UP Study Material in Hindi Language   Click Here
Bihar Study Material in Hindi Language Click Here
MP Study Material in Hindi Language Click Here
Rajasthan Study Material in Hindi Language Click Here

1 2 3 4 5 8
error: Content is protected !!