नोबेल पुरस्कार 2018 (Nobel Prize 2018)

नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) , नोबेल फाउंडेशन द्वारा स्वीडिश वैज्ञानिक अल्फ्रेड बर्नाड नोबेल की याद में दिया जाता है। स्वीडिश वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल ने साल 1895 में अपनी वसीयत में इन पुरस्कार की स्थापना की थी, इस वसीयत में नोबेल ने अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा एक ट्रस्ट के लिए सुरक्षित रख दिया। उनकी इच्छा थी कि इस पैसे के ब्याज से हर साल उन लोगों को सम्मानित किया जाए जिनका काम मानव जाति के लिए सबसे कल्याणकारी पाया जाए। स्वीडिश बैंक में जमा इसी राशि के ब्याज से नोबेल फाउँडेशन द्वारा हर वर्ष रसायन, साहिय, शांति, भौतिकी और साइकोलॉजी (मेडिसीन) के क्षेत्र में सर्वोत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाता है। पहली बार अल्फ्रेड नोबेल की याद में 1968 से इकोनॉमिक्स के क्षेत्र में भी नोबेल पुरस्कार दिए जाने लगे।

  • द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज (The Royal Swedish Academy of Sciences) भौतिक, रसायन और अर्थशास्त्र विषयों के लिए पुरस्कार प्रदान करती है।
  • द नोबेल असेंबली (The Nobel Assemblies) चिकित्सा के क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करती है।
  • द स्वीडिश अकादमी (The Swedish Academy) लिटरेचर के क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करती है।
  • शांति के लिए दिया जाने वाला पुरस्कार एकमात्र ऐसा है जो स्वीडिश ऑर्गेनाइज़ेशन द्वारा नहीं चुना जाता। नॉर्वे नोबेल कमेटी (Norway Nobel Committee) इसका फ़ैसला करती है।

नोबेल पुरस्कार के लिए बनी समिति और चयनकर्ता हर साल अक्टूबर में नोबेल पुरस्कार विजेताओं की घोषणा करते हैं और पुरस्कारों का वितरण अल्फ्रेड नोबेल की पुण्य तिथि 10 दिसंबर को किया जाता है। इसमें विजेता को एक गोल्ड मेडल, डिप्लोमा और उस साल नोबेल फाउंडेशन की कमाई के आधार पर तय की गई एक राशि विजेता को दी जाती है।

Note – इस साल साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जा रहा है। दरअसल नोबेल पुरस्कार का चुनाव करने वाली संस्था स्वीडिश एकेडमी की ज्यूरी की एक सदस्य के पति यौन शोषण के आरोपों में घिरे हैं। जिसके चलते स्वीडिश एकेडमी विवादों में घिरी हुई है। अकादमी ने कहा है कि वो 2018 के विजेताओं की घोषणा 2019 के विजेता के साथ ही करेगी।

चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार 2018
(The Nobel Prize in Physiology or Medicine 2018)

The Nobel Prize in Physiology or Medicine 2018
Source – www.nobelprize.org

नाम (Name) जेम्स पी एलिसन (James P. Allison) और तासुकू होंजो (Tasuku Honjo)
योगदान (Contribution)  कैंसर थेरपी की खोज के लिए।

घोषणा (Announcement) – 1 अक्टूबर 2018
पुरस्कार दिया गया (Prize Given) – द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज (The Royal Swedish Academy of Sciences)

  • जेम्स पी. एलिसन (James P. Allison) ने एक ऐसे प्रोटीन का अध्ययन किय जो रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए रुकावट का काम करता है। उन्होंने उस अवरोध को हटाने की क्षमता को महसूस किया और रोग प्रतिरोधक कोशिकाओं को ट्यूमर पर हमला करने के लिए आजाद कर दिया। उनकी इस खोज ने कैंसर पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए नए नजरिए का विकास किया है।
  • तासुकू होंजो (Tasuku Honjo) ने भी एक प्रोटीन की खोज की है, जो रोग प्रतिरोधक कोशिकाओं के लिए अवरोध का काम करता है। उन्होंने अपने शोध से पता किया कि ये प्रोटीन रोग प्रतिरोधक कोशिकाओं को कैंसर के ट्यूमर तक पहुंचने से रोकता है लेकिन इसके काम करने का तरीका बिल्कुल अलग है। उनकी खोज पर आधारित इलाज पद्यति से कैंसर के खिलाफ लड़ने में अभूतपूर्व सफलता मिली है।
Read Also ...  भारतीय सैन्य अभ्यास 2018

भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार 2018
(The Nobel Prize in Physics 2018)

The Nobel Prize in Physics 2018
Source – www.nobelprize.org

नाम (Name) ऑर्थर एश्किन (Arthur Ashkin), गेरार्ड मौरोउ (Gérard Mourou) और दोन्ना स्ट्रिकलैंड (Donna Strickland)
योगदान (Contribution) लेजर फिजिक्स के क्षेत्र में ।

घोषणा (Announcement) – 2 अक्टूबर 2018
पुरस्कार दिया गया (Prize Given) – द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज (The Royal Swedish Academy of Sciences)

  • ऑर्थर एश्किन (Arthur Ashkin) को ‘ऑप्टिकल टीजर’ का आविष्कार करने के लिए सम्मानित किया गया है। ‘ऑप्टिकल टीजर’ के जरिए कण, अणु, वायरस व अन्य जीवित कोशिकाओं को लेजर बीम फिंगर्स के जरिए पकड़ा जा सकता है।
  • गेरार्ड मौरोउ (Gérard Mourou) और दोन्ना स्ट्रिकलैंड (Donna Strickland) को अल्ट्रा-शॉर्ट ऑप्टिकल पल्सेज बनाने का   तरीका विकसित करने के लिए सम्मानित किया गया है।

Note –

  • 55 साल बाद यह सम्मान किसी महिला को भौतिकी के क्षेत्र में मिला।
  • एश्किन ऑप्टिकल नोबेल पाने वाले सबसे उम्रदराज (96 वर्षीय) वैज्ञानिक हैं। 

रसायन विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार 2018
(The Nobel Prize in Chemistry 2018)

Source – www.nobelprize.org

नाम (Name) फ्रांसिस एच. अर्नोल्ड (Frances H. Arnold), जॉर्ज पी. स्मिथ (George P. Smith) और सर ग्रेगरी पी. विंटर (Sir Gregory P. Winter)
योगदान (Contribution) क्रमविकास के सिद्धांतों का उपयोग कर जैव ईंधन से ले कर औषधि तक, हर चीज बनाने में इस्तेमाल होने वाले एंजाइम का विकास करने के लिए।

घोषणा (Announcement) – 3 अक्टूबर 2018
पुरस्कार दिया गया (Prize Given) – द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज (The Royal Swedish Academy of Sciences)

  • फ्रांसिस एच. अर्नोल्ड (Frances H. Arnold) ने एंजाइम और फार्मास्यूटिकल से संबंधित एक अविष्कार के लिए इस सम्मान से नवाजा गया है।
  • जॉर्ज पी. स्मिथ (George P. Smith) को फेज डिस्पले का मैथ्ड विकसित करने के लिए सम्मानित किया गया है। 
  • सर ग्रेगरी पी. विंटर (Sir Gregory P. Winter) को नोबेल पुरस्कार जॉर्ज स्मिथ द्वारा डेवलेप किए गए मैथ्ड डिस्पले का इस्तेमाल करते हुए नई दवाई की खोज के लिए दिया गया है।
Read Also ...  2018 के विभिन्न सूचकांकों में भारत का स्थान (India's Rankings in Different Indixes 2018)

शांति के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार 2018
(The Nobel Prize in Peace 2018)

The Nobel Prize in Peace 2018
Source – www.nobelprize.org

नाम (Name)  डॉक्टर डेनिस मुकवेगे (Dr. Denis Mukwege) और नादिया मुराद (Nadia Murad)
योगदान (Contribution) यौन हिंसा के खिलाफ संघर्ष के लिए।

घोषणा (Announcement) – 5 अक्टूबर 2018
पुरस्कार दिया गया (Prize Given) –  नॉर्वे नोबेल कमेटी (Norway Nobel Committee)

  • डॉक्टर डेनिस मुकवेगे (Dr. Denis Mukwege) ने युद्धग्रस्त पूर्वी डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में वहां के हजारों बलात्कार पीड़ितों का इलाज किया, जिनमें महिलाएं, बच्चे और यहां तक ​​कि कुछ महीने के शिशु भी शामिल हैं।
  • नादिया मुराद (Nadia Murad) को 2014 में इस्लामिक स्टेट (IS) के आतंकवादियों ने अपहरण कर लिया था और तीन महीने तक सेक्स गुलाम के रूप में रखा था।

अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार 2018
(The Nobel Prize in Economic Sciences 2018)

The Nobel Prize in Economic Sciences 2018
Source – www.nobelprize.org

नाम (Name) विलियम डी नोर्दहॉस (William D. Nordhaus) और पॉल एम. रोमर (Paul M. Romer)
योगदान (Contribution) इकोनॉमिक ग्रोथ पर रिसर्च के लिए।

घोषणा (Announcement) – 8 अक्टूबर 2018
पुरस्कार दिया गया (Prize Given) –  द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज (The Royal Swedish Academy of Sciences)

  • विलियम डी नोर्दहॉस (William D. Nordhaus) को क्लाइमेंट चेंज इकोनॉमिक्स का पिता कहा जाता है। उनको मेक्रोइकोनॉमिक एनालिसिस में क्लाइमेट चेंज के इंटीग्रेशन के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया है।
  • पॉल एम रोमर (Paul M. Romer) को मेक्रोइकोनॉमिक एनालिसिस में टेक्नोलॉजी के नए इनोवेशन के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!