टिहरी रियासत के राजा Part – 1

सुदर्शनशाह (1815 – 1859 ई0) (Sudarshan Shah)

  • प्रद्युम्नशाह गढ़वाल राज्य के अन्तिम पंवार शासक थे। खुड़बुड़ा के युद्ध में उनकी मृत्यु हुई ।
  • सुदर्शनशाह ने भागीरथी एवं भिलंगना नदी के संगम स्थल पर गणेश प्रयाग (त्रिहरि) नामक स्थल पर अपनी राजधानी की स्थापना करवाई। इससे पूर्व इस स्थल पर मछुआरों की कुछ झोपड़ी पड़ी थी और इसे टिपरी नाम से पुकारा जाता था।
  • अपने निवास के लिए उन्होंने एक राजप्रासाद बनवाया जो पुराना दरबार नाम से प्रसिद्ध था।
  • सुदर्शनशाह अपने काल के उच्चकोटि के विद्वान रहे हैं। उनके द्वारा रचित ‘सभासार’ नामक ग्रन्थ के सभी सात खण्ड प्राप्त हैं।
  • 1857 ई0 के देशव्यापी विद्रोह के दौरान सुदर्शनशाह ने अंग्रेजो की हर संभव मदद की।
  • मसूरी क्षेत्र की अंग्रेजी जनता की सुरक्षा के लिए सैन्य टुकड़ी भेजी और साथ ही अपने राज्य से उन्हें सुरक्षित निकासी का मार्ग भी प्रदान किया। अपने इस कार्य के लिए अंग्रेजो ने सशस्त्र विद्रोह दबाने के पश्चात् सुदर्शनशाह को बिजनौर जिला देने का प्रस्ताव दिया।
  • सुदर्शनशाह का विवाह कांगड़ा के कटौच राजा अनिरूद्ध चंद की दो बहनों से हुआ था किन्तु 1859 ई0 में वे वगैर उत्तराधिकारी के स्वर्ग सिधार गए। अतः गद्दी के लिए संभावित दावेदारों के मध्य संघर्ष प्रारम्भ हो गया।

भवानी सिंह (1859 – 1871 ई0) (Bhavani Singh)

  • सुदर्शनशाह के पश्चात् टिहरी की गद्दी पर उनके दो नजदीकी रिश्तेदारों ने दावेदारी प्रस्तुत की।
  • भवानीशाह को गद्दी पर बिठाया गया किन्तु सुदर्शनशाह के एक अन्य नजदीकी शेरशाह ने इसका विरोध किया।
  • शेरशाह को देश निकाला देकर देहरादून में नजरबंद कर दिया गया।
  • भवानीशाह साधारण प्रकृति के व्यक्ति थे।
  • अपने 12 वर्ष के कार्यकाल को उन्होंने शांतिपूर्वक निकाला एवं वर्ष 1881, माह दिसम्बर में उनका स्वर्गवास हो गया।
Read Also ...  टिहरी रियासत के राजा Part - 2

प्रतापशाह (1871 – 1886 ई0) (Pratapshah)

  • भवानी शाह के पश्चात उनका पुत्र प्रतापशाह टिहरी रियासत के नए राजा बने।
  • उन्होंने 1871 से 1888 ई0 शासन किया।
  • प्रतापशाह ने राजधानी टिहरी को अत्यधिक गर्मी के कारण ग्रीष्मकाल के लिए उपयुक्त नहीं पाया। इसलिए टिहरी से 14 किलोमीटर की दूरी पर 2440 मीटर की ऊँचाई पर नई राजधानी प्रतापनगर की स्थापना अपने नाम से की।
  • इसके साथ ही अपने नाम से शहर स्थापित करने की प्रथा का शुभारम्भ करने का श्रेय भी प्रतापशाह को जाता है।
  • परमार शासकों की इस वंश परम्परा में प्रतापशाह पहले थे जिन्होंने अपने राज्य में अंग्रेजी शिक्षा को प्रोत्साहन दिया।
  • अपनी आकस्मिक मृत्यु के समय उनके तीन अव्यस्क पुत्र थे कीर्तिशाह, विचित्रशाह और सुरेन्द्रशाह।

 

Read Also … 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
error: Content is protected !!