रुद्रप्रयाग (Rudraprayag) जनपद का संक्षिप्त परिचय

Rudraprayag
Image Source – http://www.onefivenine.com/

रुद्रप्रयाग (Rudraprayag)

  • मुख्यालय – रुद्रप्रयाग
  • अक्षांश – 29°55′ अक्षांश से 35°00′ उत्तरी अक्षांश
  • देशांतर – 78°54′ पूर्वी देशांतर 
  • उपनाम – रुद्रावत, पुनाड़
  • अस्तित्व – 18 सितम्बर, 1997 
  • क्षेत्रफल – 1984 वर्ग किलोमीटर  
  • तहसील – 4 (रुद्रप्रयाग, जखोली, उखीमठ, बसुकेदार) 
  • विकासखंड – 3 (अगस्त्यमुनि, जखोली, उखीमठ)
  • ग्राम – 688
  • नगर पंचायत – 3
  • नगर पालिका परिषद् – 1 (रुद्रप्रयाग) 
  • जनसंख्या – 2,42,285
    • पुरुष जनसंख्या – 1,14,589 
    • महिला जनसंख्या – 1,27,696 
  • शहरी जनसंख्या – 9,925 
  • ग्रामीण जनसंख्या – 2,32,360 
  • साक्षरता दर – 81.30%
    • पुरुष साक्षरता – 93.90%
    • महिला साक्षरता –  70.35%

 

  • जनसंख्या घनत्व – 122
  • लिंगानुपात – 1114
  • जनसंख्या वृद्धि दर – 6.53%
  • प्रसिद्ध मन्दिर – केदारनाथ, तुंगनाथ, कलपेश्वर, काटेश्वर महादेव, हरियाली देवी, कार्तिकस्वामी, कालीमठ, त्रिजुगिनारायण, चंद्रशिला, ओमकेश्वर, बाणासुर गढ़ मंदिर, गुप्तकाशी, अगस्तेश्वर महादेव, गोरीकुंड, सोनप्रयाग, उमनारायण मंदिर, नारिदेवी मंदिर
  • प्रसिद्ध मेले, त्यौहार एवं उत्सव – विषुवत संक्रांति, हरियाली देवी मेला, बैशाखी मेला, मदमहेश्वर मेला
  • प्रसिद्ध पर्यटक स्थल – देवरियाताल , केदारनाथ, कालीमठ, ऊखीमठ, त्रिजुगिनारायण, मदमहेश्वर, तुंगनाथ, गुप्तकाशी, सोनप्रयाग, चंद्रशिला
  • ताल – देवरियाताल, बदाणीताल, बासुकिताल, सुखदिताल, गांधी सरोवर 
  • कुण्ड – नन्दीकुण्ड, भौरीअमोला कुण्ड, गौरीकुण्ड 
  • जल विद्धुत परियोजनायें – केदारनाथ द्वितीय 
  • राष्ट्रीय उद्यान – केदारनाथ वन्यजीव विहार 
  • पर्वत – चंद्रगिरी , केदारनाथ 
  • बुग्याल – चोपता बुग्याल, मदमेश्वर, बर्मी 
  • ग्लेशियर – चौराबादी (गांधी सरोवर) ग्लेशियर, केदारनाथ ग्लेशियर
  • गुफायें – कोटेश्वर महादेव  
  • सीमा रेखा
  • राष्ट्रीय राजमार्ग –  NH-58 (दिल्ली – बद्रीनाथ), NH-109 (हरिद्वार-रुद्रप्रयाग)
  • कॉलेज/विश्वविद्यालय – अनुसूया प्रसाद बहुगुणा राजकीय पी जी कालेज, राजकीय डिग्री कालेज जखोली, राजकीय डिग्री कॉलेज रुद्रप्रयाग
  • विधानसभा क्षेत्र –  2 (केदारनाथ, रुद्रप्रयाग)
  • लोकसभा सीट – 1 (पौड़ी लोकसभा सीट के अंतर्गत)   
  • नदी – मंदाकिनी, अलकनंदा 
Read Also ...  उत्तराखंड के भूगोल संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Source –  https://rudraprayag.gov.in/

भौगोलिकी

रुद्रप्रयाग क्षेत्र की भूविज्ञान से पता चलता है कि हिमालय दुनिया के नवीनतम पहाड़ हैं। प्रारंभिक मेसोज़ोइक काल या द्वितीयक भौगोलिक अवधि के दौरान, उनके द्वारा ढके विशाल भू -भाग को टेथिस समुद्र द्वारा घेरा गया था। हिमालय के उन्नयन की  संभावित तिथि  मेसोज़ोइक अवधि के करीब है, लेकिन उनके ढांचे की कहानी को सुलझाना शुरू ही हुआ है , और कई मामलों में चट्टानों की कोई भी डेटिंग अभी तक संभव नहीं है, हालांकि वे भारत के प्रायद्वीपीय भाग में संबद्ध प्राचीन और अपेक्षाकृत हालिया क्रिस्टलीय  चट्टानों और तलछट शामिल हैं अलकनंदा नदी के मुख्यधारा  द्वारा जिले के क्षेत्र को  गहराई तक काटा गया है, यह मुख्य  धारा अपने सहायक नदियों की तुलना में विकास के बाद के चरण तक पहुंच गया है। हालांकि,  कुछ हिस्सों में उत्थान मध्य-प्लीस्टोसिन अवधि के बाद से काफी महत्वपूर्ण रहा है, अन्य में उच्चतर लेकिन निहित स्थलाकृति के और कहीं और सबसे गहरी  घाटियां हैं।

Read Also …

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

close button
Uttarakhand Current Affairs Jan - Feb 2023 (Hindi Language)
Uttarakhand Current Affairs Jan - Feb 2023 (Hindi Language)
error: Content is protected !!