Pauri Garhwal District info Archives | TheExamPillar

Pauri Garhwal District info

पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) जनपद का संक्षिप्त परिचय

Pauri Garhwal
Image Source – https://www.onefivenine.com

पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal)

  • मुख्यालय – पौड़ी 
  • अक्षांश – 29°45′ अक्षांश से 30°15′ उत्तरी अक्षांश
  • देशांतर – 78°24′ से 79°23′ पूर्वी देशांतर 
  • उपनाम –  गढ़वाल
  • अस्तित्व – 1840 ईसवी 
  • क्षेत्रफल – 5,230 वर्ग किलोमीटर 
  • वन क्षेत्रफल – 3,662 वर्ग किलोमीटर 
  • सब डिवीज़न – 6 (पौड़ी, श्रीनगर, लैंसडाउन, कोटद्वार, थलीसैंण, धुमाकोट)
  • तहसील – 12 (पौड़ी, चौबट्टाखाल, श्रीनगर, लैंसडाउन, सतपुली, जखनीखाल, कोटद्वार, यमकेश्वर, थलीसैंण, चाकीसैण, बीरोंखाल, धुमाकोट) 
  • उप-तहसील – 1 (रिखनीखाल )
  • विकासखंड – 15 (पौड़ी, कोट, कल्जीखाल, खिर्सू, पाबौ, थलीसैंण, बीरोंखाल, नैनिडांडा, एकेश्वर, पोखड़ा, रिखनीखाल, जयहरीखाल, द्वारीखाल, दुगड्डा, यमकेश्वर) 
  • ग्राम – 3447
  • ग्राम पंचायत – 1212
  • न्याय पंचायत – 118 
  • नगर पंचायत – 1 (र्गाश्रम जोंक)
  • नगर पालिका – 4 (कोटद्वार, दुगड्डा, श्रीनगर, पौड़ी)
  • जनसंख्या – 6,87,271
    • पुरुष जनसंख्या – 3,26,829
    • महिला जनसंख्या – 3,60,442
  • शहरी जनसंख्या – 1,12,703
  • ग्रामीण जनसंख्या – 5,74,568
  • साक्षरता दर –  82.02%
    • पुरुष साक्षरता –  92.71%
    • महिला साक्षरता –  72.60%

 

  • जनसंख्या घनत्व – 129
  • लिंगानुपात – 1103
  • जनसंख्या वृद्धि दर – (-ve)1.41%
  • प्रसिद्ध मन्दिर -ज्वालपा देवी, दुर्गादेवी, सिद्धबली मंदिर, नीलकंठ महादेव,  धारीदेवी, चामुंडादेवी, विष्णु मंदिर, कमलेश्वर मंदिर, ताड़केश्वर मंदिर
  • प्रसिद्ध मेले – गिन्दी मेला, श्रीनगर का वैकुण्ठ चतुर्दशी मेला, बिनसर मेला, सिद्धबली जयंती, वीरचन्द्रसिंह गढ़वाली मेला, मधुगंगा मेला, ताड़केश्वर मेला, गंवाडस्यू मेला, कण्वाश्रम मेला, भुवनेश्वरी देवी मेला
  • प्रसिद्ध पर्यटक स्थल – खिर्सू, चीला, कालागढ़, दूधातोली, पौड़ी, श्रीनगर, लैंसडाउन, कोटद्वार
  • गुफायें – गोरखनाथ गुफा
  • जलविद्धुत परियोजनायें – रामगंगा परियोजना, चीला परियोजना
  • राष्ट्रीय उद्यान – सोनानदी राष्ट्रीय उद्यान, जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान 
  • व्यंजन – बडी, चेंसू, भट्टवाणी, छैंच्या, रोट
  • सीमा रेखा
  • राष्ट्रीय राजमार्ग – NH-121 
  • कॉलेज/विश्वविद्यालय – (राष्ट्रीय प्रोधोगिकी संस्थान उत्तराखंड श्रीनगर, प्राचार्य इंजीनियरिंग कॉलेज घुड़दोडी, वीर चन्द्रसिंह गढ़वाली मेडिकल कॉलेज
  • विधानसभा क्षेत्र – 6 (यमकेश्वर, पौड़ी (S.C), श्रीनगर, चौबट्टाखाल, लैंसडौन, कोटद्वार)
  • लोकसभा सीट – 1 (गढ़वाल)   
  • नदी – पश्चिम रामगंगा , नयार, अलकनंदा 

Source –  https://pauri.nic.in

इतिहास

सदियों से गढ़वाल हिमालय में मानव सभ्यता का विकास शेष भारतीय उप-महाद्वीपों के समानांतर रहा है। कत्युरी पहला ऐतिहासिक राजवंश था, जिसने एकीकृत उत्तराखंड पर शासन किया और शिलालेख और मंदिरों के रूप में कुछ महत्वपूर्ण अभिलेख छोड़ दिए। कत्युरी के पतन के बाद की अवधि में, यह माना जाता है कि गढ़वाल क्षेत्र 64 (चौसठ) से अधिक रियासतों में विखंडित हो गया था और मुख्य रियासतों  में से एक चंद्रपुरगढ़ थी, जिस पर कनकपाल के वंशजो थे। 15 वीं शताब्दी के मध्य में चंद्रपुररगढ़ जगतपाल (1455 से 14 9 3 ईसवी), जो कनकपाल के वंशज थे, के शासन के तहत एक शक्तिशाली रियासत के रूप में उभरा। 15 वीं शताब्दी के अंत में अजयपाल ने चंदपुरगढ़ पर सिंहासन किया और कई रियासतों को उनके सरदारों के साथ एकजुट करके एक ही राज्य में समायोजित कर लिया और इस राज्य को गढ़वाल के नाम से जाना जाने लगा। इसके बाद उन्होंने 1506 से पहले अपनी राजधानी चांदपुर से देवलगढ़ और बाद में 1506 से 1519 ईसवी के दौरान श्रीनगर  स्थानांतरित कर दी थी।

राजा अजयपाल और उनके उत्तराधिकारियों ने लगभग तीन सौ साल तक गढ़वाल पर शासन किया था, इस अवधि के दौरान उन्होंने कुमाऊं, मुगल, सिख, रोहिल्ला के कई हमलों का सामना किया था। गढ़वाल के इतिहास में गोरखा आक्रमण एक महत्वपूर्ण घटना थी। यह अत्यधिक क्रूरता के रूप में चिह्नित थी और ‘गोरखायनी’ शब्द नरसंहार और लूटमार सेनाओं का पर्याय बन गया था। दती और कुमाऊं के अधीन होने के बाद, गोरखा ने गढ़वाल पर हमला किया और गढ़वाली सेनाओ द्वारा कठोर प्रतिरोधों के बावजूद लंगूरगढ़ तक पहुंच गए। लेकिन इस बीच, चीनी आक्रमण की  खबर आ गयी और गोरखाओं को घेराबंदी करने के लिए मजबूर किया गया। हालांकि 1803 में उन्होंने फिर से एक आक्रमण किया। कुमाऊं को अपने अधीन करने के बाद गढ़वाल में त्रिय (तीन) स्तम्भ आक्रमण किया हैं। पांच हज़ार गढ़वाली सैनिक उनके इस आक्रमण  के रोष के सामने टिक नही सके और राजा प्रदीमन शाह अपना बचाव करने के लिए देहरादून भाग गए। लेकिन उनकी सेनाएं की  गोरखा सेनाओ के साथ कोई तुलना नही हो सकती थी। गढ़वाली सैनिकों  भारी मात्रा में मारे गए और खुद राजा खुडबुडा की लड़ाई में मारे गए। 1804 में गोरखा पूरे गढ़वाल के स्वामी बन गए और बारह साल तक क्षेत्र पर शासन किया।

सन 1815 में गोरखों का शासन गढ़वाल क्षेत्र से समाप्त हुआ, जब अंग्रेजों ने गोरखाओं को उनके कड़े विरोध के बावजूद पश्चिम में काली नदी तक खिसका दिया था। गोरखा सेना की हार के बाद, 21 अप्रैल 1815 को अंग्रेजों ने गढ़वाल क्षेत्र के पूर्वी, गढ़वाल का आधा हिस्सा, जो कि अलकनंदा और मंदाकिनी नदी के पूर्व में स्थित है, जोकि बाद में, ‘ब्रिटिश गढ़वाल’ और देहरादून के दून के रूप में जाना जाता है,  पर अपना शासन स्थापित करने का निर्णय लिया। पश्चिम में गढ़वाल के शेष भाग जो राजा सुदर्शन शाह के पास था, उन्होंने टिहरी में अपनी राजधानी स्थापित की। प्रारंभ में कुमाऊं और गढ़वाल के आयुक्त का मुख्यालय नैनीताल में ही था लेकिन बाद में गढ़वाल अलग हो गया और 1840 में सहायक आयुक्त के अंतर्गत  पौड़ी  जिले के रूप में स्थापित हुआ और उसका मुख्यालय पौड़ी में गठित किया गया।

आजादी के समय, गढ़वाल, अल्मोड़ा और नैनीताल जिलों को कुमाऊं डिवीजन के आयुक्त द्वारा प्रशासित किया जाता था। 1960 के शुरुआती दिनों में, गढ़वाल जिले से चमोली जिले का गठन किया गया। 1969 में गढ़वाल मण्डल पौड़ी मुख्यालय के साथ गठित किया गया। 1998 में रुद्रप्रयाग के नए जिले के निर्माण के लिए जिला पौड़ी गढ़वाल के खिर्सू विकास खंड के 72 गांवों के लेने के बाद जिला पौड़ी गढ़वाल आज अपने वर्तमान रूप में पहुंच गया है।

Read Also …

 

error: Content is protected !!